धर्मांतरण का बड़ा रैकेट? पुलिस को आई कॉल- ‘400 लोगों का धर्म परिवर्तन कराने का दावा’

धर्मांतरण का बड़ा रैकेट? पुलिस को आई कॉल- ‘400 लोगों का धर्म परिवर्तन कराने का दावा’
ख़बर को शेयर करे

गाजियाबाद। गाजियाबाद में अवैध धर्मांतरण के मामले में नए नए खुलासे हो रहे हैं। इसी कड़ी में सामने आया है कि गाजियाबाद पुलिस को 400 लोगों के अवैध धर्मांतरण के बारे में जानकारी मिली है। सूत्रों ने बताया कि एक व्यक्ति ने गाजियाबाद पुलिस को फोन पर सूचना दी है कि महाराष्ट्र के मुंब्रा इलाके से ही तकरीबन 400 ऐसे लोग हैं, जिनका धर्मांतरण कराया गया है। इस कॉल के बाद अब गाजियाबाद पुलिस मामले की तफ्तीश में जुट गई है।

सूत्रों के मुताबिक, गाजियाबाद पुलिस को एक दिन पहले गुजरात से एक फोन कॉल के जरिए जानकारी मिली है कि महाराष्ट्र के मुंब्रा इलाके में तकरीबन 400 लोगों का अवैध धर्मांतरण हुआ है। फोन करने वाले ने गाजियाबाद पुलिस को कई अहम जानकारी देते हुए कुछ नंबर भी शेयर किए हैं, जिन नंबरों से बातचीत होती थी। जिन नंबरों को शेयर करके जानकारी दी गई है, पुलिस की टीमें उन नंबरों के जरिए इनका पता लगाने में जुट गई हैं। गाजियाबाद पुलिस का कहना है कि ये धर्मांतरण का ये बड़ा रैकेट हो सकता है, लेकिन इन आंकड़ों की सच्चाई जानने के लिए साइबर सेल,एटीएस समेत एजेंसियां भी जुट गई हैं। टीमें महाराष्ट में मौजूद हैं।

मौलवी अब्दुल रहमान ने गुनाह कबूल किया
इसके पहले गाजियाबाद धर्मांतरण मामले में आरोपी मौलवी अब्दुल रहमान ने अपना गुनाह कबूल कर लिया। आरोपी मौलवी ने स्वीकार किया कि उसने दो नाबालिग हिंदू लड़कों को अपनी बातों से प्रभावित किया था, जो बाद में उसके बताए रास्ते पर निकलते हुए मस्जिद में नमाज तक पढ़ने लगे थे। आरोपी अब्दुल ने खुलासा किया कि वो गैर मुस्लिम लड़कों को इस्लाम के बारे में जानकारी देता था। अब्दुल ने बताया कि उसकी जान पहचान एक साल पहले इलाके के दो नाबालिग लड़कों के साथ हुई थी।

इसे भी पढ़े   पीएम मोदी ने श्रीलंका के नए राष्ट्रपति को भेजा पत्र,कहा-मिलकर काम करने के लिए हैं उत्सुक

गिरफ्तारी के डर से मिटाई थी मोबाइल हिस्ट्री
पूछताछ में अब्दुल ने कबूल किया कि वो दोनों नाबालिग लड़कों को उनके धर्म के बारे में उकसा रहा था और इस्लाम को सर्वोपरि बता कर उन्हें इस्लाम धर्म अपनाने के लिए कह रहा था। यही नहीं, मौलवी ने कबूल किया कि दोनों नाबालिग लड़के उसकी बातों से प्रभावित हो गए थे और मस्जिद में नमाज पढ़ने आने लगे थे। पूछताछ में अब्दुल ने ये भी बताया कि एक लड़के के परिवार को जब इसकी जानकारी मिली तो वो पुलिस के पास गए। अब्दुल को लगा कि वो पकड़ा ना जाए, इसलिए उसने अपने मोबाइल से सभी हिस्ट्री और चैट डिलीट कर दी थी। फिलहाल पुलिस आरोपी मौलवी से लगातार पूछताछ कर रही है।


ख़बर को शेयर करे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *