Wednesday, September 28, 2022
spot_img
Homeब्रेकिंग न्यूज़दिल्ली पुलिस ने बड़े ड्रग रैकेट का खुलासा किया,पाकिस्तानी कनेक्शन

दिल्ली पुलिस ने बड़े ड्रग रैकेट का खुलासा किया,पाकिस्तानी कनेक्शन

Updated on 21/September/2022 3:52:18 PM

नई दिल्ली। दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने एक बड़े ड्रग रैकेट का खुलासा किया है। पुलिस ने अब तक के इतिहास में सबसे बड़ा ड्रग कंसाइनमेंट पकड़ा है। स्पेशल सेल के स्पेशल CP एच.एस. धालीवाल ने बताया कि मुंबई के नवा शेवा पोर्ट के एक कंटेनर से हेरोइन की सबसे बड़ी बरामदगी हुई है। जब्त हेरोइन का वजन करीब 22 टन है जो लीकोरिस से लेपी गई थी। जब्त की गई हेरोइन की कीमत अंतरराष्ट्रीय बाजार में करीब 1,725 करोड़ रुपए है।

उन्होंने बताया कि इसको भेजने वाला अफगान नागरिक है जो पाकिस्तान में है। इस ड्रग को भेजने वाली कंपनी अफगानिस्तान की है और कंसाइनिंग कंपनी दुबई की है। यह हमारे पड़ोसी देश में स्थित एक पोर्ट से चला है। इसके पीछे अफगान नागरिक है जिसको गिरफ़्तार कर लिया है।

दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल द्वारा गत दिनों दिल्ली से गिरफ्तार किए गए दो अफगानी मूल के ड्रग्स तस्करों की निशानदेही पर 312.4 किलो मेथामफेटामाइन व 10 किलो हेरोइन की बरामदगी की थी। यह बरामदगी लखनऊ स्थित काकोरी में बनाए गोदाम व दिल्ली के बदरपुर में खड्डा कालोनी स्थित फैक्ट्री से की गई है। दिल्ली पुलिस ने अंतरराष्ट्रीय ड्रग्स तस्करों के कब्जे से यह अब तक की सबसे बड़ी बरामदगी होने का दावा किया है।

बरामद सिंथेटिक ड्रग्स की कीमत 1200 करोड़ रुपये होने का दावा किया गया है। कहा जा रहा है कि इस तरह के सिंडिकेट द्वारा ड्रग्स तस्करी से जुटाए गए पैसों का इस्तेमाल आतंकी गतिविधियों के लिए किया जाता है। ड्रग्स बेचकर जुटाए गए पैसे हवाला के माध्यम से तुर्की, पुर्तगाल, पाकिस्तान, अफगानिस्तान, ईरान आदि देशों में भेजा जाता है।

अफगानिस्तान से यह ड्रग्स पहले पाकिस्तान फिर ईरान भेजा जाता था। ईरान के बंदरगाह से पानी के जहाज के जरिए बोरे में भरकर ड्रग्स चेन्नई लाया जाता था। चेन्नई से सड़क मार्ग के जरिए तस्कर देश के विभिन्न राज्यों में अपने ठिकाने पर ले जाते थे। पिछले माह केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के निर्देश पर यूएपीए कानून के तहत नार्को टेररिज्म पर दर्ज की गई प्राथमिकी की जांच के दौरान स्पेशल सेल को इस सिंडिकेट के बारे में जानकारी मिली।

खड्डा कालोनी में ड्रग्स को रिफाइन करने के लिए कई उपकरण भी लगाए गए थे। उक्त उपकरण को भी जब्त कर लिया गया है। विशेष आयुक्त एचजीएस धालीवाल के मुताबिक डीसीपी प्रमोद सिंह कुशवाहा, एसीपी ललित मोहन नेगी,हृदय भूषण, इंस्पेक्टर विनोद कुमार बडोला, अरविंद कुमार के नेतृत्व में एसआइ सुंदर गौतम, यशपाल भाटी की टीम ने दो दिन पहले मीठापुर रोड, कालिंदी कुंज मेट्रो स्टेशन के पास मुस्तफा स्टानिकजई व रहीमुल्ला रहीमी को गिरफ्तार किया था।

दोनों अफगानिस्तान के मूल निवासी हैं। मुस्तफा, खड्डा कालोनी, जैतपुर पार्ट-दो में रहता था और रहीमुल्ला रहीमी ग्रेटर नोएडा में रहता था। स्पेशल सेल की टीम ने 2019 में 330 किलो, 2020 में 57.2 किलो और 2021 में 354 किलो अफगान हेरोइन की बरामदगी की थी। पुलिस का कहना है कि एफेड्रा के पौधे अफगानिस्तान के मध्य हाइलैंड्स में होते हैं। मेथामफेटामाइन के निर्माण के लिए इफेड्रिन का स्रोत यह पौधा होता है। एफेड्रा पौधों से इफेड्रिन निकालने और बनाने के लिए मध्य और दक्षिण पश्चिम में कई संयंत्र हैं जहां मेथामफेटामाइन का निर्माण किया जाता है।

तीन अगस्त को सेल ने रहीमुल्ला और मुस्तफा को स्कोडा सुपर्ब कार से कालिंदी कुंज मेट्रो स्टेशन की तरफ जाने के दौरान दबोच लिया था। तलाशी लेेने पर मुस्तफा के कब्जे से 1.360 किलो व रहीमुल्ला के कब्जे से 1.040 किलो हेरोइन बरामद की गई थी। इनसे पूछताछ के बाद एसडीएमसी टोल, कालिंदी कुंज के पास महिंद्रा पिकअप से 16 बोरे मिले। तलाशी लेने पर उसमें सफेद क्रिस्टलीय पदार्थ मिला।

उक्त संदिग्ध रसायन की नारकोटिक फील्ड टेस्टिंग किट से जांच करने पर पता चला कि 16 में से नौ बोरे में मेथामफेटामाइन ड्रग्स है। मेथामफेटामाइन और सिलिका को सिलिका के निशान वाले बोरे में छुपाया गया था जो दिखने में एक-दूसरे से मिलते-जुलते हैं। जिसकी पहचान कर पाना असंभव होता है। बाद में दोनों की निशानदेही पर यूपी में कई जगहों पर अलग-अलग मात्रा में उक्त ड्रग्स बरामद किए गए।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -spot_img

Most Popular

- Advertisment -spot_img
- Advertisment -spot_img