Wednesday, July 6, 2022
spot_img
Homeराज्य की खबरेंइस्लामिक कट्टरपंथियों ने योग कर रहे लोगों पर धावा बोला,राष्ट्रपति ने दिए...

इस्लामिक कट्टरपंथियों ने योग कर रहे लोगों पर धावा बोला,राष्ट्रपति ने दिए जांच के आदेश

Updated on 21/June/2022 4:49:56 PM

नई दिल्ली। आज दुनियाभर में आज 8वां अंतरराष्ट्रीय योग दिवस मनाया जा रहा। इस मौके पर मालदीव की राजधानी माले के गालोल्हू नेशनल फुटबॉल स्टेडियम में योग कार्यक्रम का आयोजन किया जा रहा था। इस बीच इस्लामिक कट्टरपंथियों के एक ग्रुप ने स्टेडियम पर धावा बोल दिया। राष्ट्रपति इब्राहिम मोहम्मद सोलिह ने मामले की जांच के आदेश दिए हैं।

कार्यक्रम के दौरान अचानक 100 से ज्यादा लोग स्टेडियम में झंडा लेकर दौड़ते हुए घुस आए और लोगों को भगा दिया। इस दौरान कट्‌टरपंथियों ने स्टेडियम में लगे योग से जुड़े पोस्टर-बैनर और बोर्ड तोड़ दिए। इतना ही नहीं इन लोगों ने कैमरे में रिकॉर्ड कर रहे लोगों पर भी हमला बोला।

वीडियो में देखा जा सकता है कि कट्‌टरपंथियों ने अपने हाथों में कुछ तख्तियां और पोस्टर ले रखे थे। इस पर योग के विरोध में नारे लिखे गए थे। इस पर अंग्रेजी में लिखा था- ‘योग इज शिर्क’ यानी ‘इस्लाम में योग करना पाप है।’

अब तक 6 लोगों की गिरफ्तारी
मामले में अब तक 6 लोगों को गिरफ्तार किया गया है। मालदीव के राष्ट्रपति इब्राहिम मोहम्मद सोलिह ने मामले की जांच के आदेश दिए हैं। उन्होंने कहा- मालदीव पुलिस ने सुबह गालोल्हू स्टेडियम में हुई घटना की जांच शुरू कर दी है। यह एक गंभीर चिंता का विषय है, और इसके लिए जिम्मेदार लोगों को कानून के सामने लाया जाएगा।

यह कार्यक्रम इंडियन कल्चर सेंटर की तरफ से आयोजित किया गया था। प्रोग्राम में हाई लेवल डिप्लोमैट्स और कई सरकारी अधिकारी भी मौजूद थे। मंगलवार सुबह जैसी ही कार्यक्रम शुरू हुआ कट्टरपंथियों ने हमला कर दिया। इससे पहले भी कार्यक्रम रोकने की धमकी दी गई थी।

2014 में मालदीव ने किया था योग दिवस का सपोर्ट
2014 में जब संयुक्त राष्ट्र (UN) ने योग दिवस को मान्यता दी थी,तब 177 देशों ने इसके पक्ष में मतदान किया था। खास बात यह है कि मालदीव भी इन 177 देशों में शामिल था, इसके साथ ही उसने संयुक्त राष्ट्र के प्रस्ताव को को-स्पॉन्सर करने के पक्ष में वोट दिया था।

इस साल की थीम ‘योगा फॉर ह्यूमैनिटी’
हर साल 21 जून को योग दिवस के लिए एक थीम रखी जाती है। इस साल की थीम ‘योगा फॉर ह्यूमैनिटी’ (Yoga For Humanity) चुनी गई है, जिसका मतलब है मानवता के लिए योग। आयुष मंत्रालय के मुताबिक इस थीम को रखने का मकसद कोविड के दौरान जिन लोगों को शारीरिक और मानसिक तनाव का सामना करना पड़ा है, उन्हें आराम देना है। पिछले साल अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस 2021 की थीम ‘योग फॉर वेलनेस’ था।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -spot_img

Most Popular

- Advertisment -spot_img
- Advertisment -spot_img