लखनऊ: 90 साल की बुजुर्ग का घर में गला काटकर कत्ल

लखनऊ: 90 साल की बुजुर्ग का घर में गला काटकर कत्ल
ख़बर को शेयर करे

यूपी की राजधानी लखनऊ में 90 साल की बुजुर्ग महिला की हत्या से सनसनी फैल गई। बुजुर्ग घर में अकेली रहती थी। महिला की गर्दन दो जगह से रेती गई थी। बाएं व दायीं तरफ। मौके से चाकू आदि कोई भी आलाकत्ल बरामद नहीं हुआ।लखनऊ के त्रिवेणीनगर के योगीनगर इलाके से सनसनीखेज वारदात सामने आई है। यहां रविवार को घर में घुसकर फोरेंसिक लैब के रिटायर्ड डिप्टी डायरेक्टर मुकेश चंद्र शर्मा की 90 वर्षीय मां स्नेहलता की गला रेतकर हत्या कर दी गई। वह घर पर अकेली रहती थीं। घटनास्थल से लूट के कोई सबूत पुलिस को नहीं मिले। पुलिस का मानना है कि वारदात करने वाले का इरादा स्नेहलता को मारना था। अब तक की तफ्तीश में जो कुछ सामने आया है उससे पुलिस का मानना है कि वारदात में कोई करीबी शामिल है।

मुकेश चंद्र शर्मा स्नेहलता के तीसरे नंबर के बेटे हैं। वह जानकीपुरम में रहते हैं। वही उनकी देखरेख करने आते-जाते रहते थे। नवरात्र के पहले दिन रविवार को भी मुकेश सुबह करीब 11 बजे मां को फल आदि देने गए थे। करीब एक घंटे तक वहां रुकने के बाद वह वापस चले गए थे। 

रात करीब पौने आठ बजे स्नेहलता की लुधियाना निवासी पोती ने उनके पड़ोसी देवेंद्र को फोन किया। उसने बताया कि वह काफी वक्त से दादी को कॉल कर रही हैं, लेकिन रिसीव नहीं हो रही है। इस पर देवेंद्र अपनी छत से कूदकर स्नेहलता के मकान की छत पर गए। 

जाल से जब नीचे झांक कर देखा तो स्नेहलता आंगन में खून से लथपथ पड़ी दिखीं। पड़ोसियों की सूचना पर उनके बेटे व अन्य परिजन पहुंचे। इसके बाद पुलिस को जानकारी दी गई। पुलिस आसपास लगे सीसीटीवी कैमरों के फुटेज खंगाल रही है।

इसे भी पढ़े   मां-बाप ने गला घोंट दो बेटियों की कर दी हत्या, पुलिस के सामने बिलख-बिलखकर बताई वजह

घर का सारा सामान व्यवस्थित मिला
जब पुलिस व परिजन पहुंचे तो घर का दरवाजा खुला था। फोरेंसिक टीम ने भी जांच पड़ताल की। डीसीपी नॉर्थ एसएम कासिम ने बताया कि अब तक की जांच में एक बात तो साफ है कि लूट नहीं हुई है। पूरा सामान व्यवस्थित रखा है। बेटे मुकेश ने भी बताया है कि कुछ भी गायब नहीं है। मतलब वारदात करने वाले का मकसद सिर्फ स्नेहलता को मारना था।

 बिना तस्दीक नहीं खोलती थीं दरवाजा
मकान के मुख्य गेट पर एक तरह से दो दरवाजे लगे हैं। पहला सामान्य, दूसरा लोहे का जाली वाला दरवाजा लगा है। सुरक्षा की नजरिये से ये दरवाजे लगाए गए हैं। मुकेश ने बताया कि उनकी मां कभी भी किसी के आवाज लगाने पर दरवाजा नहीं खोलती थीं।

पहले उनको कॉल करना पड़ता था। तब वह बाहर आती थीं। तस्दीक कर लेती थीं कि आने वाला रिश्तेदार या परिचित है, तभी दरवाजा खोलती थीं। पर दरवाजा जबरन खुलवाए जाने के साक्ष्य नहीं मिले हैं। इसलिए भी बेहद करीबी पर शक है।

क्यों माराइस सवाल का जवाब तलाश रही पुलिस
पुलिस सूत्रों के मुताबिक कुछ ऐसे सुबूत सामने आए हैं, उससे अंदेशा है कि बुजुर्ग के पोते मानस ने वारदात को अंजाम दिया है। लेकिन, पूछताछ में वह बातों को घुमाता रहा। यहां तक कि उसका व्यवहार ऐसा था जैसे वह साइको टाइप हो। डीसीपी ने बताया कि गहनता से तफ्तीश की जा रही है।

पुलिस पता कर रही है कि हत्या की वजह क्या है। इसका जवाब मिलने के बाद पुलिस वारदात का खुलासा करेगी। आशंका है कि अचानक हुए विवाद की वजह से घटना की। या फिर संपत्ति आदि का कोई विवाद है। इन पहलुओ पर जांच जारी है।

 गर्दन दो जगह से रेती
स्नेहलता की गर्दन दो जगह से रेती गई थी। बाएं व दायीं तरफ। मौके से चाकू आदि कोई भी आलाकत्ल बरामद नहीं हुआ। आशंका है कि वारदात को अंजाम देने के बाद आरोपी ही आलाकत्ल लेकर फरार हो गया।

इसे भी पढ़े   शादी से तीन दिन पहले युवती की मौत, जहां बजने थे मंगल गीत वहां छाया मातम, डोली की जगह उठी अर्थी

ख़बर को शेयर करे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *