Wednesday, September 28, 2022
spot_img
Homeराज्य की खबरेंबेगूसराय गोलीकांड का खुलासा:11 लोगों को मारी थी गोली,4 गिरफ्तार;दो पिस्टल जब्त

बेगूसराय गोलीकांड का खुलासा:11 लोगों को मारी थी गोली,4 गिरफ्तार;दो पिस्टल जब्त

Updated on 16/September/2022 5:01:08 PM

बेगूसराय। बेगूसराय में दहशत फैलाने के लिए नेशनल हाईवे पर 11 लोगों को चार बदमाशों ने गोली मारी थी। पुलिस ने घटना के दो दिन बाद इसका खुलासा किया है। चार आरोपियों को गिरफ्तार किया है। बेगूसराय एसपी योगेंद्र कुमार ने कहा कि आरोपियों का मकसद दहशत फैलाना था। आरोपियों के पास से दो देशी पिस्टल और 5 कारतूस बरामद किया गया है।

एसपी ने कहा, इसकी प्लानिंग में और लाेग भी शामिल हैं। ये सभी फायरिंग करने वालों के साथ संपर्क में थे। अभी जांच चल रही है। पुलिस ने केशव कुमार,युवराज, चुनचुन और सुमित कुमार को गिरफ्तार किया है। युवराज और सुमित गोली चला रहे थे, जबकि चुनचुन और केशव बाइक ड्राइव कर रहे थे।

नेशनल हाईवे 28 और 31 पर 13 सितंबर को 5 जगहों पर 2 बाइक सवारों ने गोलियां बरसाई थीं, जिसमें एक व्यक्ति की मौत हो गई थी। इस मामले में गिरफ्तार चारों आरोपी बेगूसराय के ही रहने वाले हैं। चारों पर पहले से ही आपराधिक मामले दर्ज हैं।

एसपी ने कहा कि चार टीमें बनाई गई थीं। बेगूसराय,समस्तीपुर,पटना,खगड़िया,जमुई और लखीसराय जिलों में छापेमारी की गई। एसटीएफ और सीआईडी भी आरोपियों को पकड़ने के लिए जुटी थीं। हाईवे पर लगे 22 सीसीटीवी कैमरे खंगाले गए। इसके आधार पर युवराज की पहचान करके गिरफ्तार किया गया। फिर सुमित, चुनचुन को पकड़ा गया। केशव को झारखंड की झाझा रेलवे स्टेशन पर पकड़ा गया। वह रांची भागने के फिराक में था।

एसपी ने कहा कि पूछताछ में अपराधियों ने अपना अपराध स्वीकार किया है। युवराज ने घटना के समय जो येलो रंग की टीशर्ट पहने हुए था, वह सुमित के घर से मिली है। युवराज के निशानदेही पर दो देसी पिस्टल बरामद हुआ। युवराज जिस बाइक पर बैठा हुआ था। वह भी पुलिस ने बरामद किया है। केशव और चुनचुन इस घटना की प्लानिंग रचने में शामिल थे।

इधर, केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने बेगूसराय गोलीकांड मामले पर बड़ा बयान दिया है। उन्होंने इसे आतंकवादी घटना करार दिया। मंत्री ने कहा कि इसकी जांच NIA से कराई जानी चाहिए। बिहार सरकार अपराधियों के नाम छिपाने में लगी है। इसलिए इस मामले में हिंदुओं का नाम दिखा रहे हैं।

सुमित पुराना हिस्ट्रीशीटर
सुमित का पुराना आपराधिक रिकॉर्ड है और हिस्ट्रीशीटर भी है। केशव और बाकी के दोनों अपराधी इसके अंदर में ही काम करते हैं। सूत्रों के अनुसार सुमित का कनेक्शन शराब के अवैध धंधे से भी है।

पेट्रोल पंप लूटकांड में जेल जा चुका है केशव
14 सितंबर को केशव उर्फ नागा के चार भाइयों में से एक को पुलिस ने उठाया था। पूछताछ के बाद उसे छोड़ दिया, जिसके बाद केशब बीहट से भागा। इसी क्रम में ट्रेन में पकड़ा गया। वह बीहट में ही पेट्रोल पंप लूट कांड में पहले जेल जा चुका है।

11 को मारी थी गोली
बेगूसराय के बछवारा थाना क्षेत्र के नेशनल हाईवे-28 स्थित गोधना क्षेत्र में 13 सितंबर को शाम 4 बजे फायरिंग की वारदात सामने आई थी। 40 मिनट तक चली इस फायरिंग में हाईवे के 25 किलोमीटर के बीच 5 जगहों पर बाइक सवारों ने गोलियां बरसाईं थी।

फायरिंग में 11 लोगों को गोली लगी थी, जिसमें एक व्यक्ति की मौत हो गई थी। फायरिंग वाली पांच में चार जगहों पर लोगों ने कहा-एक बदमाश बाइक चला रहा था तो पीछे बैठा दूसरा शख्स जिसे मन किया, गोली मारता रहा। वहीं, मल्हीपुर चौक पर पान की दुकान पर बैठे युवक ने कहा कि उसने देखा कि तीन बाइक से बदमाश आए थे।

दो को गोली मारी,एक की मौत
शाम करीब साढ़े 4 बजे। यहीं पहली वारदात हुई। बदमाशों ने भारत फाइनेंस के कर्मचारी विशाल कुमार (26) को गोली मार दी। विशाल अपना काम पूरा करने के बाद पैसा जमा करने के लिए दुलारपुर स्टेट बैंक के पीछे अपने कार्यालय जा रहे थे। इसी बीच बाइक सवार बदमाशों ने गोधना स्कूल के पास उन्हें गोली मार दी। इसके बाद गोधना ठाकुरबाड़ी के पास बरौनी फ्लैग निवासी चंदन कुमार को गोली लगी। चंदन ने मौके पर ही दम तोड़ दिया।

स्पॉट-2: तेघड़ा थाना क्षेत्र का पिढ़ौली
बदमाश पहले स्पॉट से आधा किलोमीटर दूर स्थित तेघड़ा थाना की सीमा पर पिढ़ौली चौक पहुंचे। तब शाम के करीब 4:40 बजे होंगे। यहां भी बदमाश फायरिंग करते हैं। पिढ़ौली निवासी बृजकिशोर पाठक के 30 वर्षीय पुत्र गौतम कुमार को गोली लगती है। गौतम यहां के संगीता गैस एजेंसी में काम करते हैं। वह एजेंसी से गैस सिलेंडर उतारकर लौटे ही थे कि बदमाशों की फायरिंग में उन्हें गोली लग जाती है। वे वहीं अचेत पड़ जाते हैं। इसके बाद बदमाश यहां से भी आराम से निकल जाते हैं।

स्पॉट-3: फुलवरिया थाना क्षेत्र का मोती चौक
बदमाश करीब 4:50 बजे दूसरे स्पॉट से 7 किलोमीटर दूर फुलवरिया थाना क्षेत्र के मोती चौक पहुंचे। यहां तेघड़ा अयोध्या चौक पर रघुनंदनपुर निवासी दीपक कुमार (28) को पीठ में गोली मार दी। वहीं, अयोध्या चौक पर ही समस्तीपुर जिले के दलसिंहसराय थाना क्षेत्र के ओरियामा गांव निवासी नीतीश कुमार और बरौनी फ्लैग निवासी अमरजीत को भी गोली मार दी। इसके बाद बदमाश फुलवारी से नेशनल हाईवे 31 की तरफ मुड़ गए।

स्पॉट-4: एफसीआई थाना क्षेत्र,मल्हीपुर चौक
तीसरे स्पॉट से 7 किलोमीटर दूर बदमाश मल्हीपुर चौक पहुंचे। इस समय 5 बजे रहे थे। पान की दुकान पर एक युवक ने बताया कि यहां सड़क किनारे तीन लोगों पर बदमाशों ने गोलियां चलाईं। आइसक्रीम बेचने वाले जीतू पासवान (25) को सबसे पहले गोली मारी गई। इसके बाद रंजीत कुमार (35) और ललीत कुमार (23) घायल हो गए।

पान की दुकान पर भी गोली चलाई गई, लेकिन गनीमत रही कि यह गोली किसी को नहीं लगी। दुकान पर बैठे युवक ने बताया कि तीन बाइक पर बदमाश सवार थे। हालांकि और जगहों पर प्रत्यक्षदर्शियों का कहना है कि एक ही बाइक पर दो बदमाश थे, जो फायरिंग कर रहे थे।

स्पॉट-5: चकिया थाना क्षेत्र, थर्मल प्लांट
बदमाश चौथे स्पॉट से करीब 10 किलोमीटर दूर आगे पहुंचे। चकिया थाना क्षेत्र के थर्मल पावर प्लांट के पास भरत यादव (32) को गोली मार दी। आसपास के लोगों ने बताया कि वह थर्मल पावर प्लांट से काम कर साइकिल से कस्बा स्थित अपने घर जा रहे थे। यहां से 10 कदम आगे NTPC गेट पर बदमाश मोकामा निवासी प्रशांत कुमार (23) को गोली मार दी। प्रशांत भी अपने घर लौट रहे थे।

यहां पर नवीन कुमार यादव ने बताया कि करीब सवा 5 बजे की बात होगी, हम लोग खड़े होकर बात कर रहे थे, तभी एक बोलेरा आकर रुकी। उसमें से एक व्यक्ति उतरा और बताया कि आगे गोली मार दी। जब हम लोग भाग कर गए तो देखा कि भरत यादव जमीन पर छटपटा रहे थे। तब तक पता चला कि आगे भी किसी को गोली मारी गई है।

5 थानों से गुजरे हथियारबंद बदमाश, पुलिस अलर्ट तक नहीं भेज पाई
हथियारबंद बदमाश फायरिंग करते हुए पांच स्पॉट से बेखौफ गुजरे। खास बात यह है कि 30 KM की दूरी में सड़क किनारे ही बछवारा थाना, बरौनी थाना, जीरोमाइल थाना, एफसीआई थाना और चकिया थाना है। 40 मिनट तक बाइक सवार फायरिंग करते रहे और पुलिस का तालमेल देखिए कि वह आसपास के थानों को अलर्ट तक नहीं भेज पाई।

पुलिस बयान लेती रही और अपराधी सीमा पार करके निकल गए
आसपास के लोगों के मुताबिक बदमाश बाइक पर सवार थे। बाइक ड्राइव कर रहा बदमाश काले रंग की हेलमेट पहने हुए था। जो बदमाश गोली चला रहा था, वह गमछे से मुंह बांधे हुए थे। उसके हाथ में पिस्टल थी। प्रशांत कुमार को गोली मारने के बाद बदमाश पटना की ओर निकल गए। जब एक के बाद एक घायल अस्पताल पहुंचने लगे तब जाकर पुलिस सक्रिय हुई। हालांकि, ये सक्रियता भी सिर्फ बयान तक सिमट कर रह गई। क्योंकि पुलिस जब बयान ले रही थी, बदमाश बेगूसराय जिले की सीमा पार करके निकल गए।

डेढ़ साल पहले शादी,6 माह की बेटी
चंदन कुमार (32) बेगूसराय के बगरहा स्थित पावर ग्रिड में इंजीनियर थे। वह पंचायत समिति के सदस्य रह चुके हैं। डेढ़ साल पहले ही उनकी शादी हुई थी। छह महीने की बेटी है। गोली लगने की खबर सुनकर परिवार रोते-बिलखते मौके पर पहुंचा। गोद में बेटी को लिए पत्नी का रो-रोकर बुरा हाल था।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -spot_img

Most Popular

- Advertisment -spot_img
- Advertisment -spot_img