Friday, December 2, 2022
Google search engine
Homeराज्य की खबरेंताजमहल में नमाज पर हंगामा,हिंदूवादी संगठन सड़क पर उतरे,जय श्री राम के...

ताजमहल में नमाज पर हंगामा,हिंदूवादी संगठन सड़क पर उतरे,जय श्री राम के नारे लगाए

आगरा। आगरा के ताजमहल में एक बार फिर से नमाज पढ़ने का वीडियो सामने आया है। इसमें दिख रहा है कि गार्डन में सफेद कुर्ता-पाजामा पहने एक व्यक्ति सफेद टोपी पहनकर नमाज पढ़ रहा है। उसके नजदीक ही एक महिला भी बैठी हुई है। मामले को लेकर हिंदूवादी संगठन ने सड़क पर उतर आए हैं। हिंदूवादियों ने पुरातत्व विभाग कार्यालय के सामने प्रदर्शन कर जय श्री राम के नारे लगाए। साथ पीएम मोदी के नाम ज्ञापन सौंपा।

महासभा की मीना दिवाकर ने बताया, “CM योगी के आगरा आने पर इस बात की शिकायत करेंगे। मांग करेंगे कि अगर अधिकारी व्यवस्था नहीं संभाल पा रहे हैं, तो उन्हें सुरक्षा की जिम्मेदारी दी जाए। जिस दिन से हमें इसकी जिम्मेदारी मिल जाएगी, तो कोई भी ऐसा नहीं कर पाएगा। हमारे भगवा पहनकर पहुंचने पर वो तुरंत सतर्क हो जाते हैं। मगर, नमाज उन्हें दिखाई नहीं देती है।”

पुरातत्व अधीक्षक आरके पटेल ने बताया, ” आने वाले समय में वीकेंड या अधिक भीड़ वाले दिनों में कर्मचारियों की संख्या बढ़ाएंगे। ताकि ऐसी घटना दोबारा न हो पाए। मामले में विभाग की तरफ से थाना ताजगंज पुलिस को अज्ञात लोगों के खिलाफ कार्रवाई के लिए तहरीर दी गई है। मामले की जांच की जा रही है।”

अखिल भारत हिंदु महासभा की ब्रज प्रांत महिला प्रकोष्ठ की अध्यक्ष मीना दिवाकर और संजय जाट ने कहा कि 7 महीने में तीसरी बार ऐसा हुआ है। उन्होंने कहा कि जब तेजोमहल की पूजा करने जाते हैं तो हमें रोका जाता है। भगवा पहने हो तो प्रवेश नहीं दिया जाता है और लड्डू गोपाल अगर साथ हैं तो कहते हैं कि उन्हें अकेला बाहर छोड़ आओ तब जाने देंगे। दूसरी तरफ ताजमहल में लोगों को नमाज पढ़ने दी जाती है। इसे कतई बर्दाश्त नहीं करेंगे।

बता दें, ताजमहल के अंदर किसी भी तरह की धार्मिक गतिविधि पर रोक है। शुक्रवार को ताजमहल के अंदर स्थित शाही मस्जिद में सिर्फ स्थानीय निवासी नमाज अदा कर सकते हैं। इसके अलावा रमजान के महीने में और ईद व बकरीद पर सुबह नमाज अदा कर सकते हैं।

इससे पहले 25 मई को हैदराबाद के पर्यटक और 9 अगस्त को केरल के पर्यटकों ने नमाज पढ़ी थी। चोरी छिपे ताजमहल पर पूजा करने के मामले में अब तक दर्जन भर से अधिक हिंदूवादियों पर कार्रवाई हो चुकी है। तीन बार लड्डु गोपाल की मूर्ति न ले जाने देने पर पर्यटक वापस लौट चुके हैं। कृष्ण वेश में आने पर पर्यटक प्रवेश से वंचित रहा है।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -spot_img

Most Popular

- Advertisment -spot_img
- Advertisment -spot_img