गाजा के अल शिफा अस्‍पताल में खुली हमास की पोल,बना रखी थी 55 मीटर लंबी सुंरग

गाजा के अल शिफा अस्‍पताल में खुली हमास की पोल,बना रखी थी 55 मीटर लंबी सुंरग
ख़बर को शेयर करे

गाजा। इजरायल डिफेंस फोर्स,आईडीएफ को गाजा के अस्पताल अल शिफा में चल रहे अपने सैन्य अभियान में बड़ी कामयाबी मिली है। आईडीएफ ने अल शिफा अस्पताल परिसर में हमास की 55 मीटर लंबी सुरंग ढूंढ़ निकालने का दावा किया है। आईडीएफ ने एक वीडियो जारी करते हुए कहा है कि उसको अपने ऑपरेशन के दौरान शिफा अस्पताल परिसर में 10 मीटर नीचे आतंकियों की एक महत्वपूर्ण 55 मीटर लंबी ये सुरंग मिली है। इस सुरंग के एंट्री गेट कई तरह के डिफेंस सिस्टम लगे हैं। इसका दरवाजा ब्लास्ट प्रूफ है और एक फायरिंग होल भी है, जिससे हमास के लड़ाके इजरायली बलों को इसमें प्रवेश करने से रोक सकें।

इस सुरंग का वीडियो सोशल वीडियो पर शेयर करते हुए आईडीएफ ने लिखा है, हम कई हफ्तों से दुनिया को ये बताने की कोशिश कर रहे हैं कि हमास गाजा के निवासियों और अल शिफा अस्पताल के मरीजों को इस जंग में मानव ढाल की तरह इस्तेमाल कर कर रहा है। इससे पहले अस्पताल के अंदर भारी मात्रा में गोला बारूद बरामद किया गया था। अब ये सुरंग मिली है। हमास ने यहां अपना ठिकाना बना रखा था, ये बताने के लिए हमारे पास और भी कई सबूत हैं।

अस्पताल पर सेना के दावे झुठला रहा है हमास
इजरायल की सेना लगातार ये कह रही है कि अल शिफा अस्पताल हमास के आतंकियों का ठिकाना है। इजरायली सेना का दावा है कि अल शिफा अस्पताल में बने हमास के हेडक्वार्टर से ही 7 अक्टूबर के हमले की साजिश रची गई। ऐसे में अस्पताल परिसर को अपने नियंत्रण में लेने के बाद इजरायली सेना ने यहां तलाशी अभियान चला रखा है। इजरायली सेन अस्पताल परिसर में गोला बारूद, हथियार और सुरंगों होने की बात कह रहे हैं।

इसे भी पढ़े   वाराणसी में बंदरों के आतंक से बचने का अनोखा जुगाड़,लकड़ी के लंगूर बेच रहे दुकानदार

इजरायल की ओर से अल शिफा अस्पताल के बारे में किए जा रहे दावों को हमास गलत करार दे रहा है। गाजा पट्टी के स्वास्थ्य विभाग का कहना है कि अस्पताल को निशाना बनाकर इजरायल युद्ध अपराध कर रहा है। इजरायली सेना की ओर से जारी वीडियो को भी हमास ने फर्जी करार दिया है। हमास का कहना है कि इजरायल डिफेंस फोर्स (आईडीएफ) अल शिफा अस्पताल के परिसर को कब्जे में लेकर गाजा के लोगों की बची हुई उम्मीदों को खत्म कर रही है क्योंकि इस अस्पताल में इन मुश्किल हालात में भी दो हजार से ज्यादा लोगों का इलाज हो रहा है।


ख़बर को शेयर करे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *