Wednesday, July 6, 2022
spot_img
Homeमनोरंजनयूक्रेन में महिलाओं के साथ हो रहे अत्यचार का विरोध करने बिना...

यूक्रेन में महिलाओं के साथ हो रहे अत्यचार का विरोध करने बिना कपड़ों के पहुंची महिला

Updated on 21/May/2022 3:47:12 PM

नई दिल्ली। कान फिल्म फेस्टिवल 2022, 17 मई से शुरू हुआ है और इसमें कई स्टार्स का जलवा दिखा है। इस बार का ये इवेंट भारत के लिए खास है क्योंकि इस बार दीपिका पादुकोण कान की ज्यूरी मेंबर हैं और इसके साथ ही इस बार भारत को कंट्री ऑफ ऑनर के लिए चुना है और यहां भारत को रिप्रेजेंट करने कई भारतीय सेलेब्स आए हैं जिसमें ए आर रहमान,आर माधवन,नवाजुद्दीन सिद्दीकी,शेखर कपूर,तमन्ना भाटिया,पूजा हेगड़े,उर्वशी रौतेला और लोक गायक मामे खान शामिल हैं। हालांकि शुक्रवार को फेस्टिवल में कुछ ऐसा हुआ जिसे देखकर वहां मौजूद सभी हैरान रह गए। दरअसल, यहां एक महिला यूक्रेन में हो रहे महिलाओं के साथ क्राइम के खिलाफ प्रोटेस्ट करने आई।

क्या है पूरा मामला
दरअसल,एक महिला बिना कपड़े पहने वहां आई और चिल्लाने लगी। हालांकि महिला को देखते ही सिक्योरिटी वहां पहुंची और महिला को ब्लेजर से कवर किया और वहां से लेकर गए। हॉलीवुड रिपोर्टर के मुताबिक महिला ने अपने सारे कपड़े फाड़े और फोटोग्राफर्स के सामने आ खड़ी हुईं और चिल्लाने लगी। वह यूक्रेन में महिला के खिलाफ हो रहे सेक्सुअल वॉयलेंस का प्रोटेस्ट कर रही थी। महिला की बॉडी पर लिखा था, हमारा रेप करना बंद करो।

ये सब जॉर्ज माइलर की थ्री थाउजेंड इयर्स ऑफ लॉन्गिंग के प्रीमियर के दौरान हुआ जिसमें इदरिस एल्बा और टिल्डा स्विंटन हैं। जब ये सब हुआ तब फिल्म के डायरेक्टर और स्टार्स वहीं मौजूद थे।

ओपनिंग डे पर यूक्रेन के राष्ट्रपति ने दिया था मैसेज
बता दें कि इससे पहले यूक्रेन के राष्ट्रपति वलोडिमिर जेलेंस्की ने कान 2022 के ओपनिंग डे पर एक मैसेज दिया था। उन्होंने सिनेमा और रिएलिटी के कनेक्शन पर बात की थी। जेलेंस्की ने फ्रांसिस फोर्ड कोपोला की ‘एपोकैलिप्स नाउ’ और चार्ली चैपलिन की ‘द ग्रेट डिक्टेटर’ जैसी फिल्मों का भी डिस्कशन किया था। उन्होंने ये भी कहा था कि हमें नए चैपलिन की जरूरत है जो ये बताए कि आज का सिनेमा चुप नहीं रहेगा।

यूक्रेनी राष्ट्रपति ने आगे फिल्म निर्माताओं को चुप नहीं रहने के लिए कहा क्योंकि यूक्रेन में सैकड़ों लोग मर रहे हैं। दूसरे वर्ल्ड वॉर के बाद यूरोप में सबसे बड़ा युद्ध है और यह दर्शाता है कि सिनेमा हमेशा स्वतंत्रता के पक्ष में है।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -spot_img

Most Popular

- Advertisment -spot_img
- Advertisment -spot_img