दूध से ट्रिगर होते हैं अस्थमा के लक्षण? जानें डेयरी प्रोडक्ट्स और सांस की बीमारी के बीच का कनेक्शन

दूध से ट्रिगर होते हैं अस्थमा के लक्षण? जानें डेयरी प्रोडक्ट्स और सांस की बीमारी के बीच का कनेक्शन
ख़बर को शेयर करे

नई दिल्ली। दूध और अन्य डेयरी प्रोडक्ट कैल्शियम,प्रोटीन और विटामिन जैसे जरूरी पोषक तत्व प्रदान करते हैं, इसलिए हम अक्सर इनका सेवन करते हैं। हालांकि,अस्थमा जैसी पुरानी सांस की बीमारी पर डेयरी प्रोडक्ट्स के संभावित प्रभाव को लेकर लगातार बहस और शोध जारी है।

अस्थमा में ऑक्सीजन लेने वाली नली में सूजन और सिकुड़न होता है,जिससे घरघराहट, सांस लेने में तकलीफ, सीने में जकड़न और खांसी जैसे लक्षण पैदा होते हैं। कुछ लोगों को डेयरी प्रोडक्ट्स का सेवन करने के बाद अस्थमा के लक्षण बढ़ सकते हैं, लेकिन दूध और अस्थमा के बीच का संबंध समस्या है और हर व्यक्ति में अलग-अलग होता है।

अस्थमा क्या है?
अस्थमा एक लंबे वक्त तक चलने वाली सांस की बीमारी है जिसमें ऑक्सीजन लेने वाली नली में सूजन और सिकुड़न आ जाती है। इससे घरघराहट, सांस लेने में तकलीफ, सीने में जकड़न और खांसी जैसे लक्षण पैदा होते हैं। ये लक्षण गंभीरता और फ्रीक्वेंसी में अलग हो सकते हैं, और अक्सर एलर्जी, श्वसन संक्रमण, व्यायाम या पर्यावरण प्रदूषकों जैसे फैक्टर से ट्रिगर होते हैं। अस्थमा सभी उम्र के लोगों को प्रभावित करता है और डेली एक्टिविटी और जीवन की क्वालिटी को काफी प्रभावित कर सकता है।

अस्थमा में डेयरी की भूमिका
सूजन की प्रतिक्रिया

डेयरी प्रोडक्ट्स में कैसिइन और व्हे जैसे प्रोटीन होते हैं, जिनसे कुछ लोगों को सेंसिटिविटी हो सकती है। सेंसिटिव व्यक्तियों में, डेयरी प्रोडक्ट्स का सेवन शरीर में एक भड़काऊ प्रतिक्रिया को ट्रिगर कर सकता है, जो संभावित रूप से अस्थमा के लक्षणों को बढ़ा सकता है।

इसे भी पढ़े   'Adani को पहले थाली में परोस कर दिया पोर्ट, अब कांग्रेस कर रही नौटंकी', राहुल गांधी पर सीतारमण का तीखा हमला

बलगम
अस्थमा से पीड़ित कुछ लोगों को डेयरी प्रोडक्ट्स का सेवन करने के बाद ऑक्सीजन लेने वाली नली में बलगम बढ़ सकता है। यह एक्स्ट्रा बलगम ऑक्सीजन लेने वाली नली में रुकावट पैदा कर सकता है और अस्थमा से पीड़ित व्यक्तियों में सांस लेने में कठिनाई को बढ़ा सकता है।

एलर्जी प्रतिक्रियाएं
वयस्कों में असली डेयरी एलर्जी अपेक्षाकृत कम होती है, लेकिन अस्थमा से ग्रस्त कुछ लोगों में डेयरी प्रोटीन से एलर्जी या असहनीयता हो सकती है। डेयरी से एलर्जी की प्रतिक्रिया हल्के लक्षणों जैसे पित्ती और खुजली से लेकर गंभीर प्रतिक्रियाओं जैसे एनाफिलेक्सिस तक हो सकती है, जो रेस्पिरेटरी फंक्शन को प्रभावित कर सकती है और अस्थमा के लक्षणों को बढ़ा सकती है।

अध्ययनों में मिले मिले-जुले परिणाम
डेयरी के सेवन और अस्थमा के बीच संबंध की जांच करने वाले अध्ययनों में मिले-जुले परिणाम सामने आए हैं। कुछ अध्ययनों में डेयरी सेवन और अस्थमा के लक्षणों के बीच पॉजिटिव लिंक लिंक पाया गया है, जबकि अन्य अध्ययनों में कोई महत्वपूर्ण संबंध नहीं पाया गया है। शोध बताते हैं कि बचपन में डेयरी का सेवन अस्थमा या रेस्पिरेटरी लक्षणों के विकास के बढ़ते खतरे से जुड़ा हो सकता है। हालांकि, सबूत निर्णायक नहीं हैं और प्रारंभिक डेयरी के संपर्क और अस्थमा के खतरे के बीच संबंध को समझने के लिए और अधिक शोध की जरूरीता है। वर्तमान में अस्थमा से पीड़ित वयस्कों में, अस्थमा के लक्षणों पर डेयरी सेवन के प्रभाव अलग-अलग हो सकते हैं। कुछ लोगों को डेयरी का सेवन करने के बाद लक्षणों में वृद्धि का अनुभव हो सकता है, जबकि अन्य लोगों को कोई खास प्रभाव नहीं पड़ सकता है।

इसे भी पढ़े   महसा अमिनी की मौत पर ईरान की महिलाओं ने बाल काटकर विरोध जताया

ख़बर को शेयर करे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *