‘शरद पवार को NDA में लाओ और…पीएम ने अजित पवार को दिया ऑफर’;कांग्रेस नेता का दावा

‘शरद पवार को NDA में लाओ और…पीएम ने अजित पवार को दिया ऑफर’;कांग्रेस नेता का दावा
ख़बर को शेयर करे

नई दिल्ली। महाराष्ट्र में नेता विपक्ष विजय वडेट्टीवार ने दावा किया है कि मुख्यमंत्री बनने के लिए अजित पवार के सामने पीएम नरेंद्र मोदी ने एक शर्त रखी है। वडेट्टीवार के मुताबिक,पीएम मोदी ने अजित पवार के सामने यह शर्त रखी है कि अगर वह महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री बनना चाहते हैं तो उनको अपने चाचा और एनसीपी सुप्रीमो शरद पवार को एनडीए में लाना होगा। जब उनसे अजित और शरद पवार की सीक्रेट मुलाकातों के बारे में पूछा गया तो कांग्रेस नेता ने कहा कि यही वजह है कि अजित पवार बार-बार शरद पवार से मुलाकात कर रहे हैं।

‘घबराई हुई है बीजेपी’
विजय वडेट्टीवार ने आगे कहा,’अगले साल होने वाले लोकसभा चुनाव से पहले बीजेपी घबराई हुई है। दो पार्टियों को तोड़ने के बावजूद भी वह संतुष्ट नहीं है। इसलिए वह एनसीपी सुप्रीमो को अपने पाले में करना चाहती है। बीजेपी जानती है कि वह बड़े कद के नेता हैं, जिनकी पूरे देश में धाक है। इसलिए जीत के लिए उनको शरद पवार की बहुत जरूरत है।’

जब विजय वडेट्टीवार से पूछा गया कि अगर एनसीपी चीफ शरद पवार बीजेपी में शामिल हो जाते हैं तो फिर क्या रणनीति रहेगी? इस पर उन्होंने कहा कि चूंकि कांग्रेस राष्ट्रीय पार्टी है इसलिए कई योजनाएं तैयार हैं।

अब इन रिपोर्ट्स पर एनसीपी नेता जितेंद्र अव्हाड का बयान सामने आया है। उन्होंने कहा,एनसीपी सुप्रीमो पहले ही साफ कर चुके हैं कि वे कहीं नहीं जा रहे।

जितेंद्र अव्हाड ने किया ये दावा
मीडिया से बातचीत में एनसीपी नेता ने कहा,’शरद पवार पहले ही कह चुके हैं कि मैं कहीं नहीं जा रहा हूं और अंबेडकर-फुले की विचारधारा को नहीं छोड़ूंगा। आप क्या चाहते हैं कि एक 83 साल का आदमी हर रोज टीवी पर आए और कहे कि मैं अपनी विचारधारा नहीं छोड़ूंगा?’

इसे भी पढ़े   मनीष कश्यप की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट ने नीतीश सरकार को भेजा नोटिस, तमिलनाडु से भी मांगा जवाब

जितेंद्र अव्हाड ने उन मीडिया रिपोर्ट्स पर भी बयान दिया, जिसमें कांग्रेस नेता और महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री पृथ्वीराज चव्हाण ने दावा किया था कि शरद पवार या उनकी बेटी सुप्रिया सुले को केंद्रीय कैबिनेट में पद का ऑफर दिया गया है। इन रिपोर्ट्स पर अव्हाड ने कहा,यह बात आप लोग कांग्रेस वालों से पूछें। हम अंत तक महाराष्ट्र विकास अघाड़ी के साथ हैं।


ख़बर को शेयर करे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *