अपने ही जाल में फंस गई चीनी पनडुब्बी, कैप्टन के साथ 55 क्रू मेंबर की मौत;ब्रिटिश मीडिया का दावा

अपने ही जाल में फंस गई चीनी पनडुब्बी, कैप्टन के साथ 55 क्रू मेंबर की मौत;ब्रिटिश मीडिया का दावा
ख़बर को शेयर करे

नई दिल्ली। पड़ोसी देश चीन दुश्मनों के खिलाफ लगातार साजिशें रचता रहता है। ऐसे में इस बार उसकी साजिश उस पर खुद ही भारी पड़ गई। चीन की एक परमाणु पनडुब्बी हादसे का शिकार हो गई। ये हादसा पीले सागर में हुआ है,जिसमें 55 चीनी नौसैनिकों के मौत की खबर है। चीनी सबमरीन के हादसे का दावा ब्रिटिश अखबार ने किया है।

अपनी ही साजिश के जाल में फंस गया ड्रैगन
चीनी परमाणु सबमरीन हुई हादसे का शिकार

PLA नेवी के 55 नौसैनिकों के मौत की खबर
ब्रिटिश अखबार डेली मेल ने अपनी एक रिपोर्ट में दावा किया है कि चीन ने पीले सागर में चीन ने अपनी परमाणु पनडुब्बी ‘093-417’ को तैनात किया था। रिपोर्ट के अनुसार, सागर में चीन ने ब्रिटिश जहाजों को फंसाने के इरादे से जाल बिछाया था। जिसमें चीन की पनडुब्बी खुद फंस गई और हादसे का शिकार हो गई। इस हादसे में 55 नौसैनिकों के मौत की खबर है।

फेल हो गया था ऑक्‍सीजन सिस्‍टम
यूके की एक सीक्रेट रिपोर्ट के अनुसार, चीनी पनडुब्बी के ऑक्सीजन सिस्टम विफल हो गई थी, इसके कारण ये हादसा हुआ। इसकी वजह से क्रू जहर का शिकार हो गया। कहा जा रहा है कि मृतकों में चीनी PLA नौसेना की पनडुब्बी ‘093-417’ का कैप्‍टन और 21 और अधिकारी भी शामिल हैं। आधिकारिक तौर पर चीन ने इस घटना से इनकार कर दिया है। माना जा रहा है कि चीन ने अपनी क्षतिग्रस्त पनडुब्बी के लिए अंतरराष्‍ट्रीय मदद का अनुरोध मानने से भी इनकार कर दिया है।

इसे भी पढ़े   जिला अध्यक्ष की हत्या,शादी समारोह से लौटने के दौरान अपराधियों ने मारी गोली

21 अगस्‍त की रात को हुआ था हादसा
यूके की रिपोर्ट में लिखा गया है कि एक खुफिया रिपोर्ट है कि 21 अगस्त को पीले सागर में एक मिशन को अंजाम देते समय पनडुब्‍बी एक दुर्घटना का शिकार हुई थी। रिपोर्ट्स की मानें तो यह घटना 8 बजकर 12 मिनट पर हुई। इस हादसे के कारण 55 नौसैनिकों की मौत हो गई, जिसमें 22 अधिकारी, 7 अधिकारी कैडेट, 9 जूनियर अधिकारी और 17 सेलर शामिल हैं।

हादसे के मृतकों में कैप्‍टन कर्नल जू योंग-पेंग भी शामिल हैं। चीन की टाइप 093 पनडुब्बियां पिछले 15 सालों से नौसेना का हिस्‍सा हैं। यह 351 फीट लंबी है और टॉरपीडो से लैस हैं। टाइप 093 चीन की अत्‍याधुन‍िक पनडुब्बियों में से एक है और इसमें शोर न के बराबर होता है।


ख़बर को शेयर करे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *