Friday, October 7, 2022
spot_img
Homeराज्य की खबरेंगोवा कैबिनेट में फेरबदल के संकेत? सीएम प्रमोद सावंत ने राज्यपाल से...

गोवा कैबिनेट में फेरबदल के संकेत? सीएम प्रमोद सावंत ने राज्यपाल से की मुलाकात

Updated on 15/September/2022 5:35:20 PM

नई दिल्ली। कांग्रेस के आठ विधायक भारतीय जनता पार्टी में शामिल हो गए हैं। इसके बाद मुख्यमंत्री प्रमोद सावंत ने गुरुवार को गोवा के राज्यपाल से मुलाकात की। इस मुलाकात के बाद से ही गोवा में संभावित कैबिनेट फेरबदल का संकेत मिल रहा है। यह बैठक राज्यपाल एस श्रीधरन पिल्लई के आवास पर हुई, जिसके बाद कैबिनेट में फेरबदल की अफवाहें तेज हो गई। यह संभावना है कि कांग्रेस के नए लोगों को शामिल करने के लिए कुछ मंत्रियों को राज्य मंत्रिमंडल से हटा दिया जाएगा।

मुख्यमंत्री ने हालांकि संवाददाताओं से कहा कि घटनाक्रम के बाद हुई बैठक का राजनीति से कोई लेना-देना नहीं है। सावंत ने कहा कि उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के जन्मदिन (17 सितंबर) के जश्न के कार्यक्रमों पर चर्चा करने के लिए राजभवन में राज्यपाल से मुलाकात की।

सूत्रों ने यह भी कहा कि सावंत ने गोवा विधानसभा अध्यक्ष रमेश तावड़कर से कांग्रेस विधायकों के भाजपा में विलय को लेकर मुलाकात की। अध्यक्ष को एक औपचारिक पत्र सौंपा गया, जिसे उन्होंने स्वीकार कर प्रक्रिया पूरी की।

बुधवार को गोवा के पूर्व सीएम दिगंबर कामत, पूर्व नेता प्रतिपक्ष माइकल लोबो, उनकी पत्नी डेलिलाह लोबो, केदार नाइक, राजेश फलदेसाई, एलेक्सो सिकेरा, संकल्प अमोनकर और रोडोल्फो फर्नांडीस सहित आठ कांग्रेस विधायक सत्तारूढ़ भाजपा में शामिल हो गए।

8 विधायकों के बाहर होने के बाद, 40 सदस्यीय गोवा विधानसभा में कांग्रेस के पास अब केवल 3 विधायक रह गए हैं, सत्तारूढ़ भाजपा के नेतृत्व वाले गठबंधन के पास 33 सदस्यों की ताकत है – 28 (भाजपा), 2 (महाराष्ट्रवादी गोमांतक पार्टी), और 3 (निर्दलीय) के पास है।

बाकी 3 विधायकों ने कांग्रेस के साथ रहने का संकल्प लिया
आठ साथी विधायकों के बाहर होने के बाद गोवा कांग्रेस के तीन शेष विधायकों ने बुधवार को कहा कि वे पार्टी के साथ रहेंगे। यूरी अलेमाओ, अल्टोन डी’कोस्टा, और कार्लोस अल्वारेस फरेरा ने राज्य कांग्रेस अध्यक्ष अमित पाटकर की उपस्थिति में एक संवाददाता सम्मेलन में बात की। विपक्षी दल ने दलबदल को “विश्वासघात और बेशर्मी की पराकाष्ठा” करार दिया।

विशेष रूप से, 14 फरवरी के विधानसभा चुनाव से पहले, सभी कांग्रेस उम्मीदवारों को अपना नामांकन पत्र दाखिल करने के बाद एक मंदिर और एक चर्च में ‘वफादारी प्रतिज्ञा’ लेने के लिए कहा गया था कि वे निर्वाचित होने पर पार्टी नहीं छोड़ेंगे। पार्टी ने 2019 के पलायन को ध्यान में रखते हुए यह अतिरिक्त ‘एहतियात’ ली, जब गोवा में उसके 15 में से दस विधायक रातों-रात भाजपा में शामिल हो गए थे।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -spot_img

Most Popular

- Advertisment -spot_img
- Advertisment -spot_img