सीएम योगी ने पूर्व प्रधानमंत्री चौधरी चरण सिंह की जयंती पर किया माल्यार्पण

सीएम योगी ने पूर्व प्रधानमंत्री चौधरी चरण सिंह की जयंती पर किया माल्यार्पण

लखनऊ | मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शुक्रवार को विधान भवन प्रांगण में पूर्व प्रधानमंत्री चौधरी चरण सिंह के जन्मदिवस पर उनकी प्रतिमा व चित्र पर पुष्प अर्पित किया। किसान कल्याण के लिए सदैव समर्पित रहे चौधरी जी की जयंती को किसान सम्मान दिवस के रूप में मनाया गया। इसके पश्चात मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने विधान भवन के सामने कृषक उत्पादक संगठनों (एफपीओ) को दिए जाने वाले ट्रैक्टरों को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। इस दौरान उप मुख्यमंत्री ब्रजेश पाठक, कृषि मंत्री सूर्य प्रताप सिंह, कैबिनेट मंत्री स्वतंत्र देव सिंह, वन मंत्री अरुण कुमार सक्सेना, राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) दिनेश प्रताप सिंह, कृषि राज्यमंत्री बलदेव सिंह औलख आदि मौजूद रहे।

उधर, पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय चौधरी चरण सिंह की जयंती के अवसर पर इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान में आयोजित कार्यक्रम को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि यदि देश को तरक्की के मार्ग पर ले जाना है तो कृषि विकास की दर को दोगुना करना होगा। उन्होंने कहा कि देश की कुल आबादी का 16% आबादी यूपी में है यहां कृषि भूमि 11% है, लेकिन देश की कुल उपज का 20% उत्पादन उत्तर प्रदेश करता है। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश में यह क्षमता है कि कृषि विकास की दर को वह दोगुना कर सकता है। और प्रधानमंत्री के सपने को साकार कर सकता है। 

सीएम ने कहा कि चौधरी चरण सिंह कहते थे कि देश की खुशहाली का रास्ता खेत और खलिहान से होकर गुजरता है ।हमें आज उनके बताए मार्गो पर आगे चलना होगा । वह हमेशा किसान कल्याण के लिए प्रयत्नशील रहे उनका योगदान अविस्मरणीय है। आजादी के तत्काल बाद ही उन्होंने यह स्पष्ट कर दिया था कि यदि भारत को ताकत बनना है तो खेती-किसानी पर ध्यान देना होगा। उसी मार्ग पर प्रधानमंत्री चल रहे हैं और उन्होंने अन्य दाताओं के जीवन में परिवर्तन करने के लिए विभिन्न कार्यक्रम शुरू किए हैं। उनका एक ही लक्ष्य है लागत कम और उत्पादन बढ़े। किसान सम्मान दिवस इसलिए ही हम मना रहे हैं कि हम उस लक्ष्य को पूरा कर सके। प्रदेश सरकार भी इसके लिए लगातार प्रयास कर रही है हमने साढे़ पांच साल में 86 लाख किसानों को 36 हजार करोड़ रुपये बतौर किसान सम्मान निधि बांटी। अब बीमार मिट्टी को उपचार देने और किसानों की आय को बढ़ाने के लिए प्राकृतिक खेती का अभियान चलाया है। गंगा तटवर्ती 27 जिलों में और बुंदेलखंड के 7 जनपदों में इस खेती को किया जा रहा है । उन्होंने कहा की सभी किसानों को इससे जुड़ना होगा।

इसे भी पढ़े   पत्नी के शव को कंधे पर ले कई किमी पैदल चला शख्स

Related articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *