Friday, December 2, 2022
Google search engine
Homeराज्य की खबरेंबदायूं में हिंदू नेता की गोली मारकर हत्या:सफारी गाड़ी रोककर मत्थे पर...

बदायूं में हिंदू नेता की गोली मारकर हत्या:सफारी गाड़ी रोककर मत्थे पर मारी गोली

बदायूं। बदायूं में विश्व हिंदू सेवा दल के जिलाध्यक्ष की शुक्रवार रात गोली मारकर हत्या कर दी। उनका शव आज सुबह खेतिहर इलाके में गांव से डेढ़ किमी दूर चकरोड के किनारे पड़ा मिला। उनकी सफारी गाड़ी भी पास में खड़ी थी और लाश से कुछ दूरी पर तमंचा भी पड़ा था। हत्या का आरोप गांव के कोटेदार की शिकायत करने वाले लोगों पर है। हिंदू नेता कोटेदार और शिकायतकर्ता में समझौता कराने का प्रयास कर रहे थे। जबकि शिकायत करने वालों समझौता नहीं करना चाह रहे थे। घटना मूसाझाग थाना क्षेत्र के गांव गिधौल की है।

गांव निवासी प्रदीप कश्यप (30) विश्व हिंदू सेवा दल के जिलाध्यक्ष थे। गांव वालों के मुताबिक शुक्रवार रात प्रदीप की गाड़ी रुकवाकर गोलियां मारी गईं। वारदात उस वक्त हुई जब वह अपने घर लौट रहे थे।

पहले जानते हैं विवाद का कारण
ग्रामीणों के मुताबिक, गांव के राशन डीलर मान सिंह का धीरेंद्र व उसके भाई फुलवारी से कोटा वितरण के दौरान साल भर पहले विवाद हो चुका था। इस विवाद के बाद दोनों में रंजिश थी। चार दिन पहले दोनों पक्षों में फिर कहासुनी हुई तो कोटेदार मान सिंह ने इसकी शिकायत पुलिस के वरिष्ठ अधिकारियों से की थी। इसपर इंस्पेक्टर राजेश यादव ने हिंदू नेता प्रदीप से कहा था कि दोनों पक्षों में समझौता करवा दो।

हिंदू नेता प्रदीप ने बीती 16 नवंबर को गांव के प्रेमपाल के घर में दोनों पक्षों को बुलवाया। वहां काफी लोग पहले से मौजूद थे। सभी की मौजूदगी में सुलहनामा लिखवा दिया गया। इसी बीच अचानक धीरेंद्र और फुलवारी ने समझौतानामा फाड़कर फेंक दिया था। साथ ही प्रदीप को नेतागिरी करने की बात कहकर पहले उनसे निपटने की धमकी भी दी गई थी। प्रदीप ने विरोध किया तो धीरेंद्र और फुलवारी समेत उनके सहयोगियों ने मिलकर वहीं पर पीट दिया था। कोटेदार पक्ष के लोगों ने बमुश्किल बचाया तो दोनों भाई हत्या की धमकी देकर चले गए। प्रदीप ने इसकी शिकायत पुलिस समेत मुख्यमंत्री से भी की थी लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई थी।

प्रदीप के बड़े भाई उमेश ने रोते हुए बताया, ” 2 दिन पहले भाई ने अपनी हत्या की आशंका जताई थी। पुलिस को दोबारा मामले की सूचना भी दी गई थी। आरोप है कि थाना पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की थी। हमें सुबह गांव के लोगों ने बताया कि तुम्हारे भाई का शव चकरोड के किनारे पड़ा है। गाड़ी भी पास में खड़ी है, हम लोग खेत की तरफ थे। दौड़कर मौके पर पहुंचा तो भाई की लाश गाड़ी के बगल में पड़ी थी। पास में पुलिस खड़ी थी। दो दिन पहले गांव में मारपीट हुई थी। उन लोगों ने चैलेंज किया था और धमाकाया था। मेरे भाई को मार दिया, पुलिस कुछ नहीं कर पाई। “

बतााया जाता है कि प्रदीप हिंदूवादी नेता होने के साथ-साथ भाजपा नेताओं से भी नजदीकी रखते थे। उन्होंने अपनी सफारी गाड़ी पर भाजपा का झंडा लगा रखा था। आगे विश्व हिंदू सेवा दल के जिलाध्यक्ष नाम से स्टिकर भी लगा रखा था। प्रदीप खुद को भाजपा नेता भी कहते थे।

एसएसपी डॉ. ओपी सिंह ने बताया, ” बरामद तमंचे की जांच कराई जा रही है। परिजनों की ओर से तहरीर के आधार पर मुकदमा दर्ज किया जाएगा। अभी तक कोटे की रंजिश में मर्डर का तथ्य सामने आया है। परिवार के लोगों ने गांव के धीरेंद्र पर आरोप लगाया है, आरोपियों की तलाश की जा रही है।”

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -spot_img

Most Popular

- Advertisment -spot_img
- Advertisment -spot_img