तेज प्रताप के पैरों पर गिरकर होटल मैनेजर ने मांगी माफी?

तेज प्रताप के पैरों पर गिरकर होटल मैनेजर ने मांगी माफी?
ख़बर को शेयर करे

वाराणसी | वाराणसी के होटल में बिहार के मंत्री तेज प्रताप के साथ हुई बदसलूकी मामले में एक और वीडियो सामने आया है। इस वीडियो के आधार पर दावा किया जा रहा है कि होटल के मैनेजर ने अपनी गलती मानते हुए तेज प्रताप से माफी मांग ली है। बीते दिनों खबर सामने आई थी कि होटल में तेज प्रताप के सुरक्षाकर्मियों के सामान उनके कमरों से बाहर निकालकर रिसेप्शन पर रख दिए गए थे। साथ ही तेज प्रताप के कमरे की तलाशी लेने की भी बात सामने आई थी। इसे लेकर स्थानीय थाने में शिकायत भी दर्ज कराई गई थी।


मंत्री तेज प्रताप का कमरा खोले जाने को लेकर खूब बवाल मचा था। अब इस घटना से जुड़ा एक वीडियो सामने आया है, जिसे लेकर दावा किया जा रहा है कि तेज प्रताप से होटल के मैनेजर ने घुटनों के बल बैठकर माफी मांगी है। सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे महज 3सेकेंड के वीडियो में दिख रहा है कि आर्कडिया होटल के मैनेजर तेज प्रताप के सामने घुटनों के बल बैठे हैं। दावा किया जा रहा है कि मैनेजर ने पैरों पर गिरकर तेज प्रताप से माफी मांगी लेकिन वह फिर भी नहीं पिघले।

बता दें कि बीते 6 अप्रैल की देर रात दर्शन-पूजन के लिए तेज प्रताप वाराणसी आए थे। उनके लिए आर्केडिया होटल में कमरा नंबर 205 और 206 बुक किया गया था। 7 अप्रैल की रात जब तेज प्रताप होटल पहुंचे तो बवाल हो गया। उनके निजी सहायक मिशाल सिन्हा ने बताया कि मंत्री की गैरमौजूदगी में उनका सामान कमरे से निकालकर आगंतुक कक्ष में रखवा दिया गया था। वहीं उनके सुरक्षाकर्मियों का सामान भी कमरे से निकाल बाहर फेंक दिया गया था। इसे लेकर होटल में जमकर हंगामा मचा।

इसे भी पढ़े   गन्दगी फैलाने वालों को रेलवे ने हटाया

मामले में मुकदमा तो दर्ज नहीं किया जा सका है लेकिन पुलिस ने मामले को संज्ञान में लिया है। सिगरा थाना प्रभारी ने बताया कि आरोप गलत हैं और सीसीटीवी फुटेज चेक की गई तो यह बात सामने आई कि तेद प्रताप का कमरा नहीं खोला गया था। उनके लिए जो कमरा बुक किया गया था, वह अभी भी बंद है। होटल के मैनेजर का कहना है कि दो कमरों की बुकिंग की गई थी, जिसका पैसा भी नहीं दिया गया। एक कमरा भी तीन दिन से अनावश्यक रूप से बंद है। इसके होटल को आर्थिक नुकसान हो रहा है।


ख़बर को शेयर करे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *