माफिया अतीक का भाई अशरफ शाम 7 बजे पहुंचेगा प्रयागराज:नैनी जेल में सुरक्षा के कड़े इंतजाम

माफिया अतीक का भाई अशरफ शाम 7 बजे पहुंचेगा प्रयागराज:नैनी जेल में सुरक्षा के कड़े इंतजाम
ख़बर को शेयर करे

बरेली। साबरमती जेल से माफिया अतीक अहमद को लेकर पुलिस यूपी में एंट्री कर चुकी है। वहीं,बरेली सेंट्रल जेल से अतीक के भाई अशरफ को भी प्रयागराज लाया जा रहा है। सोमवार सुबह 9 बजकर 36 मिनट पर गाड़ियों का काफिला अशरफ को लेकर रवाना हुआ है। बीच में बंदी वाहन में अशरफ को रखा गया है। दोपहर करीब 3 बजे काफिले ने इटौंजा टोल प्लाजा को क्रॉस किया। संभवत: शाम करीब 7 बजे अशरफ प्रयागराज पहुंच जाएगा।

पुलिस कड़ी सुरक्षा में मोहनलालगंज रुट से अशरफ को लेकर प्रयागराज जा रही है। एक डीएसपी, तीन इंस्पेक्टर, 16 पुलिसकर्मी उसकी सुरक्षा में हैं। बरेली से प्रयागराज की दूरी 430 किमी है। यह रास्ता 7 घंटे में तय होगा। यानी अतीक और अशरफ करीब-करीब एक ही समय पर प्रयागराज पहुंचेंगे। दोपहर 12 बजे तक अशरफ का काफिला सीतापुर क्रॉस कर चुका था।

इससे पहले, बरेली सेंट्रल जेल के बाहर 100 मीटर बैरिकेडिंग लगाकर मीडियाकर्मियों को रोक दिया गया। इस वजह से अशरफ से किसी की बात नहीं हुई है। अशरफ को बरेली, शाहजहांपुर, सीतापुर, लखनऊ, रायबरेली होते हुए प्रयागराज ले जाया जाएगा। हालांकि, पुलिस ने सुरक्षा कारणों से रूट की अभी तक पुष्टि नहीं की है।

उमेश की 2006 में हुई किडनैपिंग में अशरफ भी है आरोपी
अशरफ जुलाई 2020 से बरेली जेल में बंद है। 2006 में राजू पाल हत्याकांड के मुख्य गवाह उमेश पाल की किडनैपिंग हुई थी। इस मामले में उमेश ने एक साल बाद एफआईआर दर्ज कराई थी। कल यानी 28 मार्च को प्रयागराज में इसी उमेश पाल अपहरण केस में फैसला आना है। इस मामले में अशरफ भी आरोपी है।

इसे भी पढ़े   एंड्रोमेडा गैलेक्‍सी के एलियन 'मिथी' से डॉयलाग! ब्‍लैक मैजिक;होटल में 3 मौतों की मिस्‍ट्री उलझी

पुलिस सूत्रों के मुताबिक,अतीक ने 2006 में उमेश पाल को गन पॉइंट पर अगवा कर लिया था। उसे 3 दिन तक चकिया इलाके में अपने घर पर रखकर टॉर्चर किया गया था। उमेश पाल को मारा-पीटा गया था। भूखा रखा गया था। बिजली के शॉक दिए गए थे।

अतीक ने उमेश से जबरन हलफनामे पर अपने पक्ष में बयान लिखवा लिए थे। इसके बाद धमकी देकर छोड़ा था कि हमारे खिलाफ गवाही दी, तो अगली बार जिंदा नहीं छोड़ेंगे। उमेश पाल ने 2007 में अपने अपहरण का मुकदमा दर्ज कराया था। तभी से यह केस चल रहा है। तभी से यह केस चल रहा है। इस वक्त अशरफ का काफिला लखनऊ हाईवे पर है। पुलिस की गाड़ियों के साथ मीडिया की कारें भी इस काफिले के पीछे हैं।

अशरफ ने साजिश,जेल के 2 सिपाही समेत 11 लोग जेल भेजे
उमेश पाल हत्याकांड की जांच में सामने आया कि अशरफ का साला सद्दाम अपने साथी लल्लागद्दी और अन्य साथियों को लेकर बरेली जेल में अशरफ से लगातार मुलाकात करता रहा। 11 फरवरी 2023 को बरेली जेल में अतीक के बेटे असद समेत 9 लोग बरेली जेल में अशरफ से मिले, जिनमें शूटर विजय उर्फ उस्मान चौधरी, गुड्‌डू मुस्लिम और गुलाम भी शामिल था। बरेली जेल में अशरफ से शूटरों ने मुलाकात की। उसके 13 दिन बाद 24 फरवरी को प्रयागराज में पुलिस सुरक्षा में उमेशपाल की हत्या कर दी।

बरेली जेल से वॉट्सऐप कॉल की गई, प्रयागराज में पकड़े गए आरोपी के मोबाइल नंबर से इसकी पुष्टि हुई। अभी तक बरेली पुलिस जेल प्रकरण में सपा नेता लल्लागद्दी और जेल के दो सिपाहियों समेत 11 लोगों को जेल भेज चुकी है। 6 मार्च को जेल अधिकारी, कर्मचारी, सिपाही, अशरफ, लल्लागद़्दी पर बरेली के बिथरी चैनपुर में केस दर्ज किया गया।

इसे भी पढ़े   मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मिले मेयर अशोक तिवारी, काशी के विकास पर चर्चा

ख़बर को शेयर करे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *