कार्तिक पूर्णिमा के दिन जन्मों जन्म के पापों से छुटकारा पाने के है सुनहरा मौका

कार्तिक पूर्णिमा के दिन जन्मों जन्म के पापों से छुटकारा पाने के है सुनहरा मौका

नई दिल्ली। वैदिक पंचांग में कार्तिक माह का विशेष महतव बताया गया है। हिंदू कैलेंडर के अनुसार कार्तिक का महीना सभी माह में सबसे पवित्र माना गया है। इस माह में श्री हरि और तुलसी मां की पूजा का विशेष महत्व है। मान्यता है कि इस पूरे माह मंत्र जाप,स्नान-दजान आदि से खास फलों की प्राप्ति होती है। कार्तिक माह में सबसे ज्यादा पवित्र नदी में स्नान का महत्व बताया गया है। कार्तिक पूर्णिमा के दिन गंगा स्नान का खास महत्व है। आइए जानते हैं कार्तिक पूर्णिमा के दिन स्नान से क्या लाभ होता है और इस दिन क्या करने से व्यक्ति को पापों से मुक्ति मिलती है।

गंगा स्नान से लाभ
हिंदू शास्त्रों के मुताबिक भगवान विष्णु ने मतस्य अवतार लिया था और जल में उन्होंने निवास किया था। इस मान्यता के अनुसार कार्तिक माह की पूर्णिमा तिथि के दिन पवित्र नदियों में स्नान करने की परंपरा है। शास्त्रों के अनुसार इस दिन गंगा स्नान करने से व्यक्ति को अक्षय पुण्य की प्राप्ति होती है। कहते हैं कि बड़े-बड़े यज्ञों से जिन फलों की प्राप्ति होती है वह सिर्फ कार्तिक पूर्णिमा के दिन गंगा स्ना से मिलती है।

पापों से मुक्ति के लिए करें ये उपाय
अगर आप जीवन में परेशानियों से घिरे हुए हैं, पिछले जन्म और इस जन्म के पापो से परेशान हैं, तो गंगा स्नान के दिन किसी तीर्थस्थान पर जाकर स्नान अवश्य करें। ऐसा करने से भगवान विष्णु प्रसन्न होते हैं और आप पर कृपा बरसाएंगे. इतना ही नहीं, ऐसा करने से आपको पिछले जन्म के पापों और इस जन्म के पापों से मुक्ति मिल जाएगी. साथ ही, जीवन में चल रही आर्थिक परेशानी भी दूर हो जाती है। शास्त्रों के अनुसार पूर्णिमा का दिन मां लक्ष्मी को समर्पित है। इतना ही नहीं, इस दिन भगवान विष्णु और मां लक्ष्मी की पूजा जरूर करनी चाहिए।

इसे भी पढ़े   अमृत सरोवर योजना आने वाली 10 पीढ़ियों के लिए एक सौगात, वाराणसी में बोले उपमुख्‍यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य

कब है कार्तिक पूर्णिमा गंगा स्नान
हिंदू पंचांग के अनुसार कार्तिक माह का आखिरी दिन पूर्णिमा तिथि को कार्तिक पूर्णिमा के नाम से जाना जाता है। इस दिन को गंगा स्नान के नाम भी जानते है। इस बार कार्तिक पूर्णिमा 26 नवंबर 2023 रविवार के दिन दोपहर 3 बजकर 53 मिनट पर शुरू होगी और अगले दिन 27 नवंबर 2023 दोपहर 2 बजकर 45 मिनट पर इसका समापन होगा।

उदयातिथि के हिसाब से कार्तिक पूर्णिमा का स्नान 27 नवंबर 2023 दिन सोमवार को ब्रह्म मुहूर्त में करना सबसे ज्यादा शुभ माना जाता है।

कार्तिक पूर्णिमा का महत्व
ज्योतिष शास्त्र के अनुसार कार्तिक पूर्णिमा का दिन भगवान विष्णु की उपासना के लिए बेहद खास माना गया है। शास्त्रों के अनुसार क्षीर सागर में भगवा विष्णु का वास होता है और नारायण का अर्थ होता है जल में निवास करने वाला। कार्तिक माह भगवान विष्णु को समर्पित होता है इसलिए इस माह में स्नान का विशेष महत्व बताया गया है। मान्यता है कि इस माह में श्रद्धापूर्वक किया जप और तप व्यक्ति को मोक्ष दिलाता है।

Related articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *