रेलवे बोर्ड के आदेश पर जुलाई से होगा बदलाव,ट्रेनों में बदल जाएगा खानपान का पूरा स‍िस्‍टम

रेलवे बोर्ड के आदेश पर जुलाई से होगा बदलाव,ट्रेनों में बदल जाएगा खानपान का पूरा स‍िस्‍टम
ख़बर को शेयर करे

नई दिल्ली। अगर आप भी अक्‍सर लंबी दूरी की ट्रेन से सफर करते हैं तो इस खबर के बारे में आपको जरूरत अपडेट रहना होगा। जी हां,रेलवे बोर्ड की तरफ से ट्रेनों में बड़े बदलाव को मंजूरी दी गई है। इस बदलाव के बाद ट्रेनों की पेंट्रीकार में जून महीने के बाद यात्र‍ियों के ल‍िए नाश्‍ता और खाना नहीं बनाया जाएगा। पेंट्रीकार में केवल ज्‍यादा जरूरत पर ही पानी गर्म क‍िया जा सकेगा या चाय आद‍ि बनाई जा सकेगी। रेलवे स्टेशनों के आसपास के आईआरसीटीसी के बेस किचन भी बंद हो जाएंगे।

पेंट्रीकार को ऑपरेट क‍िये जाने की तैयारी
इस बदलाव के बाद आईआरसीटीसी की तरफ से कलस्‍टर पर पेंट्रीकार को ऑपरेट क‍िये जाने की तैयारी चल रही है। यहां पर तैयार होने वाला नाश्‍ता और खाना, ट्रेन में सफर करने वाले यात्र‍ियों को सर्व क‍िया जाएगा। अभी सेमी हाईस्‍पीड ट्रेन वंदे भारत में इसी तरह की व्‍यवस्‍था है। वंदे भारत ट्रेन में गर्म पानी की व्‍यवस्‍था रहती है, बाकी सभी चीजें ट्रेनें पहले तैयार होने के बाद यात्र‍ियों को सर्व की जाती हैं। रेलवे बोर्ड के आदेश के बाद जुलाई से ट्रेनों में खानपान का पूरा स‍िस्‍टम बदल जाएगा।

क्‍वाल‍िटी फूड उपलब्‍ध कराया जाएगा
नए स‍िस्‍टम के तहत ट्रेनों में क‍िसी भी रूट की ट्रेन में क्‍वाल‍िटी फूड उपलब्‍ध कराये जाने की तैयारी है। अलग-अलग एजेंसियों को पेंट्रीकार को ऑपरेट करने की जिम्मेदारी दी जाएगी। क‍िसी भी एजेंसी के पास एक ही रूट की पांच से सात ट्रेनों की ज‍िम्‍मेदारी होगी। एक रूट की ज‍िस भी एजेंसी को ज‍िम्‍मेदारी दी जाएगी, वह स्‍टेशन के आसपास अपना बेच क‍िचन तैयार करेगी। यहां से खाना और नाश्‍ता तैयार करके ट्रेनों में सप्‍लाई क‍िया जाएगा।

इसे भी पढ़े   दुर्लभ संयोग में दिवाली:शाम को लक्ष्मी पूजा के समय चित्रा नक्षत्र रहेगा और पांच राजयोग बनेंगे

पूर्वोत्तर रेलवे की तरफ से 80 ट्रेनों की पेंट्रीकार को कलस्टर के रूप में ऑपरेट करने की ज‍िम्‍मेदारी शुरू कर दी गई है। इसके ल‍िए अलग-अलग एजेंस‍ियों से तय तारीख तक टेंडर मांगे गए हैं। एजेंसी के अनुभव के आधार पर ही उसे ट्रेनों की ज‍िम्‍मेदारी सौंपी जाएगी। एजेंसी के काम को बीच-बीच में जांच भी जाएगा। रेलवे अध‍िकार‍ियों ने बताया क‍ि कलस्टर पर खोले जाने बेस किचन का भी समय-समय पर औचक न‍िरीक्षण क‍िया जाएगा। जरूरत पड़ी तो खानपान के नमीनों को लैब में टेस्‍ट‍िंग के ल‍िए भेजा जाएगा। इससे क‍िचन की क्‍वाल‍िटी बरकरार रह सकेगी।


ख़बर को शेयर करे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *