भारत के S-400 से डरा पाकिस्‍तान,चीन से खरीदेगा ‘नकलची’ लड़ाकू व‍िमान J-31

भारत के S-400 से डरा पाकिस्‍तान,चीन से खरीदेगा ‘नकलची’ लड़ाकू व‍िमान J-31
ख़बर को शेयर करे

इस्‍लामाबाद। भारत के एडवांस्ड मीडियम कॉम्बैट एयरक्राफ्ट योजना और एस-400 एयर डिफेंस स‍िस्‍टम से घबराया पड़ोसी पाकिस्‍तान एक बार फिर से अब चीन की शरण में पहुंचता दिख रहा है। पाकिस्‍तानी सेना प्रमुख जनरल असीम मुनीर ने ऐलान किया है कि उनका देश निकट भविष्‍य में चीन से जे-31 स्‍टील्‍थ फाइटर जेट खरीदेगा। असीम मुनीर ने पाकिस्‍तानी वायुसेना की एक परेड में चीन के जे-10 फाइटर जेट की उड़ान देखी। व‍िशेषज्ञों का कहना है कि चीन ने जे-31 फाइटर जेट को अमेरिका के पांचवीं पीढ़ी के फाइटर जेट एफ-22 और एफ-35 की नकल करके बनाया है। पाकिस्‍तान की योजना भारत के राफेल, सुखोई जैसे चौथी पीढ़ी के फाइटर जेट और एस-400 जैसे ताकतवर एयर डिफेंस सिस्‍टम को मात देने की है।

पाकिस्‍तानी सेना प्रमुख ने कहा कि देश की वायुसेना को आधुनिक बनाने के अभियान के तहत चीन से जे-31 फाइटर जेट को खरीदा जाएगा। भारत का पांचवीं पीढ़ी का फाइटर जेट जहां अभी विकास के क्रम में है, वहीं चीन का जे-31 बनकर तैयार है और हाल ही में उसका प्रदर्शन भी किया गया था। जनरल मुनीर ने यह बयान चीन से खरीदे जे-10 की उड़ान को देखने के बाद दिया। पाकिस्‍तान ने भारत के राफेल फाइटर जेट को मात देने के लिए चीन से जे-10 फाइटर जेट व‍िमान खरीदा है जो इजरायली व‍िमान की नकल करके चीन ने तैयार किया है।

जे-31 विमान क‍ितना ताकतवर?
इस चीनी व‍िमान जे-10 के आने के बाद अब पाकिस्‍तानी वायुसेना अपनी लंबी दूरी तक मार करने की क्षमता को बढ़ाने के लिए जे-31 खरीदने जा रही है। चीन का दावा है कि यह जे-31 व‍िमान स्‍टील्‍थ तकनीक से लैस है और रेडॉर की पकड़ में नहीं आता है। पाकिस्‍तान को उम्‍मीद है कि वह जे-31 की मदद से भारत के एस-400 एयर डिफेंस सिस्‍टम को मात दे सकेगी और अंदर घुसकर तबाही मचा सकेगी। पाकिस्‍तान के इस प्‍लान से जहां उसकी मार क्षमता काफी बढ़ जाएगी, वहीं भारत के लिए बड़ा खतरा बन सकता है।

इसे भी पढ़े   शेयर में इन्वेस्टमेंट से 43 हजार करोड़ का एम्पायर बनाया

पाकिस्‍तान की योजना है कि वह अमेरिकी एफ-16 फाइटर जेट को धीरे-धीरे रिटायर करके उनकी जगह जे-31 को तैनात करे। पाकिस्‍तानी सेना प्रमुख ने यह नहीं बताया कि चीन से जे-31 को कब खरीदकर वायुसेना में शामिल किया जाएगा। व‍िशेषज्ञों के मुताबिक पाकिस्‍तानी फैसले के निर्धारण में कई फैक्‍टर काम करेंगे, इसमें चीन से बातचीत, पैसे का जुगाड़ और अमेरिकी प्रतिक्रिया शामिल है। इसी वजह से उन्‍होंने अपनी पूरी योजना का खुलासा अभी नहीं किया है। विशेषज्ञों का कहना है कि चीन ने जे-31 का निर्माण अमेरिका के सबसे आधुनिक एफ-35 फाइटर जेट की जासूसी करके उसकी तकनीक के आधार पर इसे तैयार किया है। इस चीनी फाइटर जेट में कई लंबी दूरी तक मार करने वाली मिसाइलें और कई अन्‍य हथियार लगे हैं। इसकी बिना फ्यूल टैंक के मारक क्षमता 1250 तक बताई जाती है।


ख़बर को शेयर करे

Related articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *