राहुल गांधी ने रैली में बताया,अमेठी छोड़ रायबरेली से क्यों लड़ रहे चुनाव?

राहुल गांधी ने रैली में बताया,अमेठी छोड़ रायबरेली से क्यों लड़ रहे चुनाव?
ख़बर को शेयर करे

रायबरेली। कांग्रेस पार्टी ने जब राहुल गांधी के अमेठी की जगह रायबरेली से चुनाव लड़ने की घोषणा की तो भाजपा ने तंज कसा था। विश्लेषण किए जाने लगे कि रायबरेली जाने से क्या नुकसान और क्या फायदा होगा। भाजपा ने दावा किया कि वायनाड में हार के डर से राहुल रायबरेली आए। आज रायबरेली में एक चुनावी रैली के दौरान कांग्रेस उम्मीदवार राहुल गांधी ने इस सवाल का जवाब दिया जो काफी समय से पूछा जा रहा था। उन्होंने कहा कि रायबरेली मेरी दो माताओं की कर्मभूमि है इसलिए मैं यहां से चुनाव लड़ने आया हूं।

लोकसभा चुनाव के तहत प्रचार के लिए कांग्रेस नेता आज ही रायबरेली पहुंचे हैं। इससे पहले एक हफ्ते से उनकी बहन प्रियंका गांधी ने मोर्चा संभाल रखा है। वह दिन-रात नुक्कड़ सभाएं और रैलियां कर रही हैं।

आज रायबरेली में राहुल गांधी ने कहा कि मेरी दो माताएं हैं। एक सोनिया गांधी और दूसरी इंदिरा गांधी। रायबरेली मेरी इन दोनों माताओं की कर्मभूमि है। इसीलिए, मैं यहां से चुनाव लड़ने आया हूं। कांग्रेस पार्टी देश के युवाओं के लिए क्या करने जा रही है, ये बताने मैं रायबरेली आया हूं।

उन्होंने कहा कि रायबरेली से हमारे परिवार का रिश्ता 100 साल पुराना है। यह चुनाव इतिहास का पहला चुनाव है, जिसमें संविधान की रक्षा की लड़ाई कांग्रेस लड़ रही है। यह लड़ाई गरीबों की रक्षा के लिए है। सरकार बनी तो हर महिला के खाते में प्रतिमाह 8,500 रुपए भेजेंगे।

उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी ने युवाओं को बेरोजगार कर दिया है। INDIA गठबंधन की सरकार बनने पर हर युवा को अप्रेंटिसशिप मिलेगी। 15 अगस्त तक 30 लाख नौकरी देने का काम कांग्रेस पार्टी करेगी और देश में ठेकेदारी प्रथा बंद होगी।

इसे भी पढ़े   दूल्हे ने सफेद कुर्ता-धोती तो दुल्हन ने शादी पर पहनी पोलोई,लगीं बेहद खूबसूरत

राहुल गांधी ने भाजपा पर हमला करते हुए कहा कि अमेठी में मैं राइफल, AK-47 की फैक्ट्री लेकर आया था लेकिन अभी तक इसे शुरू नहीं किया गया है। राहुल ने आगे बताया कि कांग्रेस ने रायबरेली में क्या-क्या काम किया।

जिला अस्पताल
लालगंज रेल कोच फैक्ट्री
NTPC, ऊंचाहार
AIIMS
स्पाइस पार्क
शारदा नहर
गंगा ब्रिज
राजीव गांधी पेट्रोलियम इंस्टीट्यूट
राष्ट्रीय उड़ान एकेडमी
NIFT, FDDI
हाईवे


ख़बर को शेयर करे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *