30 हजार फीट के ऊपर उड़ रही थी फ्लाइट.. इतना भयंकर टर्बुलेंस आया,1 की मौत कई घायल

30 हजार फीट के ऊपर उड़ रही थी फ्लाइट.. इतना भयंकर टर्बुलेंस आया,1 की मौत कई घायल
ख़बर को शेयर करे

नई दिल्ली। सिंगापुर एयरलाइंस की एक फ्लाइट को लंदन से सिंगापुर जाते समय भारी ‘टर्बुलेंस’ का सामना करना पड़ा। इस घटना में दुखद रूप से एक व्यक्ति की मौत हो गई और कई अन्य घायल हो गए। जानकारी के अनुसार SQ206 फ्लाइट लंदन के हीथ्रो हवाई अड्डे से रवाना हुई थी और सिंगापुर के चांगी हवाई अड्डे के लिए जा रही थी।

जानकारी के मुताबिक ये फ्लाइट 30 हजार फीट के ऊपर उड़ रही थी। उड़ान के दौरान फ्लाइट ने अचानक तेज हवाओं का सामना किया,जिसके कारण विमान में भारी ‘टर्बुलेंस’ पैदा हो गया। इस ‘टर्बुलेंस’ के कारण एक यात्री की मौत हो गई और कई अन्य घायल हो गए। फ्लाइट की इमरजेंसी लैंडिंग बैंकॉक में कराई गई। टर्बुलेंस कुछ समय तक बने रहने की वजह से फ्लाइट को बैंकॉक डायवर्ट किया गया।

घायलों को तुरंत हवाई अड्डे पर पहुंचने के बाद अस्पताल ले जाया गया। उनकी चोटों की गंभीरता के बारे में अभी तक कोई जानकारी नहीं मिली है। सिंगापुर एयरलाइंस ने इस घटना पर गहरा दुःख व्यक्त किया है और मृतक के परिवार के प्रति अपनी संवेदनाएं प्रकट की हैं। एयरलाइन ने घायलों के इलाज के लिए सभी आवश्यक सहायता प्रदान करने का भी वादा किया है। ये भी सामने आया है कि फ्लाइट में 211 यात्री और 18 क्रू सदस्य सवार थे। फ्लाइट शाम 6 बजकर 10 मिनट पर सिंगापुर के चांगी एयरपोर्ट उतरने वाली थी।

यह घटना हवाई यात्रा की सुरक्षा के बारे में गंभीर चिंता जताती है। ‘टर्बुलेंस’ हवाई यात्रा के दौरान होने वाली एक आम घटना है, लेकिन इतनी तीव्रता से होने वाली घटनाएं दुर्लभ हैं। यह अभी भी स्पष्ट नहीं है कि ‘टर्बुलेंस’ इतनी तीव्रता से क्यों हुआ। एयरलाइन और संबंधित अधिकारी इस घटना की जांच कर रहे हैं।

इसे भी पढ़े   विपक्ष की मीटिंग में बड़ा फैसला! नीतीश कुमार

हवाई यात्रा में अचानक होने वाली अशांति..
टर्बुलेंस जिसे हवाई यात्रा में हवा में अशांति भी कहा जाता है, वायुमंडल में होने वाले अचानक बदलावों के कारण विमान में होने वाली अस्थिर गति को दर्शाता है। यह हवा के तेज बहाव, तापमान में बदलाव, या वायुमंडलीय दबाव में अंतर के कारण हो सकता है।

टर्बुलेंस के दौरान,विमान ऊपर-नीचे,आगे-पीछे और बग़ल में हिल सकता है। यह हल्की झटके जैसी हो सकती है या फिर इतनी तीव्र हो सकती है कि यात्रियों को अपनी सीटों से उछलने पर मजबूर कर दे।

हालांकि टर्बुलेंस डरावना लग सकता है, यह आमतौर पर खतरनाक नहीं होता है। आधुनिक विमान टर्बुलेंस का सामना करने के लिए डिज़ाइन किए गए हैं और पायलटों को इन परिस्थितियों में विमान को सुरक्षित रूप से उड़ाने का प्रशिक्षण दिया जाता है।

सामान्य कारण:
वायुमंडलीय मौसम: गरज, तूफान और ठंडे मोर्चों जैसे मौसम के पैटर्न टर्बुलेंस का कारण बन सकते हैं।
पहाड़ और पहाड़ी क्षेत्र: जब विमान पहाड़ों या पहाड़ी क्षेत्रों से उड़ता है, तो हवा का प्रवाह अस्थिर हो सकता है, जिससे टर्बुलेंस हो सकती है।
विमान का वेग और ऊंचाई में बदलाव: जब विमान तेज़ी से उड़ता है या ऊंचाई बदलता है, तो हवा में अचानक बदलाव टर्बुलेंस का कारण बन सकता है।


ख़बर को शेयर करे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *