विश्व प्रसिद्ध कोहिनूर आज टॉवर ऑफ लंदन में प्रदर्शित किया जाएगा,भारत से अंग्रेजों के पास कैसे पहुंचा

विश्व प्रसिद्ध कोहिनूर आज टॉवर ऑफ लंदन में प्रदर्शित किया जाएगा,भारत से अंग्रेजों के पास कैसे पहुंचा
ख़बर को शेयर करे

नई दिल्ली। पूरी दुनिया में प्रसिद्ध कोहिनूर हीरा आज (26 मई) ब्रिटेन के टॉवर ऑफ लंदन में शुरू हो रही प्रदर्शनी में प्रदर्शित किया जाएगा। वहां प्रदर्शनी में कोहिनूर को ‘विजय के प्रतीक’ के रूप में दिखाया जाएगा। मैनेजर सोफी लेमग्नेन ने इसकी जानकारी दी।

सोफी लेमग्नेन ने कहा कि कोहिनूर एक बेशकीमती हीरा है,जिसका लंबा इतिहास रहा है। यह कई हस्तियों के हाथों से गुजरा है।’ बता दें कि कोहिनूर को ब्रिटिश किंग और क्वीन के ताज में स्थापित कर उनकी शान को बढ़ाया जाता था। उस ताज को ब्रिटिश किंग आज भी खास मौकों पर पहनते हैं।

आजादी से पहले ही इसे ब्रिटेन ले गए थे अंग्रेज
कोहिनूर हीरा भारत का है, 1947 में जिसे स्वतंत्रता मिलने से पहले ही ब्रिटेन ले जाया गया था। कोहिनूर की भारत वापसी के लिए अब तक कई दफा कोशिशें की जा चुकी हैं, लेकिन ब्रिटिश सरकार ने इसे भारत को नहीं सौंपा। कोहिनूर समेत अंग्रेजों ने भारत से ढेरों अद्भुत कलाकृतियां कब्जाई थीं और उन्हें अपने देश ब्रिटेन ले गए थे।

80 हजार से ज्यादा भारतीय वस्तुएं ब्रिटेन के पास
अब वहां के संग्रहालयों में भारत की अनेक नायाब और बेशकीमती वस्तुएं रखी हुई हैं। इन वस्तुओं की संख्या हजारों में है। एक रिपोर्ट के मुताबिक, ब्रिटिश म्यूजियम्स में भारत की 80 हजार से ज्यादा धरोहर हैं। उनमें से कई बेशकीमती कलाकृतियों से, ब्रिटिश सरकार को सालाना 3 हजार करोड़ रुपये तक कमाई होती है। इन चीजों को भारत वापस लाने की मुहिम एक बार फिर छिड़ सकती है।

इसे भी पढ़े   5 आइज की रिपोर्ट पर कनाडा ने भारत पर लगाया था आरोप, तो हमास के आगे सब हो गए फेल?

अब भारत वापस लाने की मुहिम छिड़ेगी
टेलीग्राफ की रिपोर्ट में कहा गया है कि भारत कोहिनूर हीरा,अन्य मूर्तियों के साथ औपनिवेशिक युग की कलाकृतियों को वापस लाने के लिए एक अभियान चलाएगा। दरअसल, ब्रिटेन से नायाब हीरे कोहिनूर को वापस भारत लाने का मुद्दा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली सरकार की प्राथमिकताओं में से एक है। मोदी सरकार के कार्यकाल में अब तक, ब्रिटेन और ऑस्ट्रेलिया समेत कई अन्य देशों से कई भारतीय कलाकृतियां वापस भारत लाई गई हैं,जिनमें अष्टधातु की प्रतिमाओं से लेकर, मूर्तियां, घड़ियां और प्राचीन वस्तुएं शामिल हैं।


ख़बर को शेयर करे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *