यमुनोत्री में भीड़ से बुरा हाल,दूसरे दिन हजारों श्रद्धालुओं ने किए दर्शन,कई जगह फंसे लोग

यमुनोत्री में भीड़ से बुरा हाल,दूसरे दिन हजारों श्रद्धालुओं ने किए दर्शन,कई जगह फंसे लोग
ख़बर को शेयर करे

नई दिल्ली। आज चारधाम यात्रा का दूसरा दिन है। श्रद्धालुओं में यात्रा को लेकर बहुत उत्साह देखने को मिल रहा है। पहले ही दिन करीब 45 हजार से ज्यादा श्रद्धालुओं ने दर्शन किए। बता दें कि यमुनोत्री में भीड़ से बुरा हाल है, यहां तक कि पैर रखने के लिए भी जगह लोगों को नहीं मिल रही है। पैदल मार्ग में श्रद्धालुओं की भीड़े के कारण दर्शन करने में दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है।

यमुनोत्री में भीड़ से बुरा हाल
अक्षय तृतीया के पावन अवसर पर यानी बीते शुक्रवार को केदारनाथ, गंगोत्री व यमुनोत्री धाम के कपाट खुलने के साथ चारधाम यात्रा का शुभारंभ हो गया। यमुनोत्री मंदिर के द्वार खोले जाने के एक दिन बाद कई लोग दर्शन के लिए लाइन में खड़े नजर आए। इसके अलावा भीड़े के कारण बड़कोट से जानकीचट्टी तक श्रद्धालु जगह-जगह फंसे रहे।

30 हजार लोगों ने किए दर्शन
बाबा केदारनाथ धाम के कपाट खुलने के बाद 30 हजार लोगों ने मंदिर में दर्शन किए। जानकारी के लिए बता दें कि 8 लाख से ज्यादा श्रद्धालुओं ने पंजीकरण कराया है। पर्यटन विभाग की ओर से मिली जानकारी के अनुसार चारधाम यात्रा शुरू होने के साथ ही पंजीकरण का आंकड़ा 23 लाख के पार पहुंचा। वहीं, शुक्रवार शाम चार बजे तक चारधाम यात्रा के लिए 23 लाख 57 हजार 393 पंजीकरण किए गए हैं।

पंजीकरण का सिलसिला जारी
बदरीनाथ धाम के लिए 7 लाख 10 हजार 192 रजिस्ट्रेशन, यमुनोत्री के लिए तीन लाख 68 हजार 302 पंजीकरण और गंगोत्री धाम के लिए चार लाख 21 हजार 205 पंजीकरण हुए हैं। वहीं, हेमकुंड साहिब के लिए भी इस बार 50 हजार 604 पंजीकरण अभी तक किए जा चुके हैं। यात्रा शुरू होने के बाद भी पंजीकरण का सिलसिला लगातार जारी है।

इसे भी पढ़े   Honor का तगड़ी बैटरी वाला धमाकेदार Smartphone!डिजाइन देखते ही आ जाएगी चेहरे पर मुस्कान

निर्देश जारी
उत्तराखंड सरकार के पर्यटन मंत्री ने श्रद्धालुओं के लिए निर्देश जारी किए हैं। जारी किए गए निर्देश के मुताबिक श्रद्धालु राज्य सरकार की ओर से जारी एडवाइजरी का पालन करते हुए ही यात्रा करें। वहीं, यात्रियों और वाहनों की सुरक्षा के लिए कड़े इंतजाम भी किया गए हैं।


ख़बर को शेयर करे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *