RBI की रोक के बाद कोटक बैंक का शेयर क्रैश,एक्‍सपर्ट से जान‍िए अभी खरीदें या नहीं

RBI की रोक के बाद कोटक बैंक का शेयर क्रैश,एक्‍सपर्ट से जान‍िए अभी खरीदें या नहीं
ख़बर को शेयर करे

नई दिल्ली। आरबीआई की तरफ से कोटक महिंद्रा बैंक के ख‍िलाफ कार्रवाई कि‍ये जाने के बाद गुरुवार सुबह मार्केट खुलने के साथ ही बैंक का शेयर धड़ाम हो गया। कारोबारी सत्र की शुरुआत में ही बैंक के शेयर में 10 प्रतिशत से ज्‍यादा की गिरावट देखी गई। यह गिरावट भारतीय रिजर्व बैंक की तरफ से बैंक को ऑनलाइन नए ग्राहक बनाने और क्रेडिट कार्ड जारी करने पर रोक लगाने के एक दिन बाद आई है। जानकारों का कहना है कि रिजर्व बैंक की इस कार्रवाई से कोटक बैंक के रिटेल कारोबार और शेयर प्राइस को लेकर मार्केट का भरोसा कमजोर हो सकता है।

मैक्‍वारी का मानना है कि रिजर्व बैंक की तरफ से लगाई गई रोक कोटक बैंक के लिए बड़ा झटका है। यह इसल‍िए खास है क्‍योंक‍ि ग्राहक जोड़ने के लिए बैंक पूरी तरह से ऑनलाइन मोड पर निर्भर रहते हैं। बैंक के 811 डिजिटल प्लेटफॉर्म के जरिये बड़ी संख्या में सेव‍िंग अकाउंट खोले गए हैं और ज्‍यादातर बिना गारंटी वाले लोन भी डिजिटल तरीके से ही दिए जाते हैं। आपको बता दें कि पिछले एक साल में बैंक के डिजिटल कारोबार में 40 प्रतिशत का इजाफा हुआ है। यह कुल मिलाकर 18 प्रतिशत की वृद्धि से ज्यादा है। जानकारों का मानना है कि रिजर्व बैंक की कार्रवाई से कोटक बैंक की ग्रोथ, मुनाफे का अंतर और फीस से होने वाली कमाई पर असर पड़ेगा।

शेयर का हाल
र‍िजर्व बैंक की तरफ से कोटक महिंद्रा बैंक पर रोक लगाए जाने के बाद बैंक के शेयर में जबरदस्‍त ग‍िरावट देखी गई। एक द‍िन पहले बुधवार को यह शेयर 1843 रुपये पर बंद हुआ। गुरुवार सुबह यह शेयर 1675 रुपये पर खुला। कारोबारी सत्र के दौरान शेयर 1689 रुपये के हाई लेवल तक गया। इंट्रा डे में शेयर का लो लेवल 1620 रुपये रहा। इस दौरान यह 52 हफ्ते के लो लेवल 1620 तक ग‍िरा। हालांक‍ि बाद में इसमें मामूली तेजी देखी गई। शेयर का 52 हफ्ते का हाई लेवल 2,063 रुपये है।

इसे भी पढ़े   खांसी से लंबे समय से हैं परेशान, तो इसे अवश्य पढ़ें

एचडीएफसी बैंक पर भी हुई थी कार्रवाई
जेफरीज नामक ब्रोकरेज फर्म ने कहा क‍ि कोटक महिंद्रा बैंक के साथ ऐसा ही हुआ है जैसा कुछ समय पहले HDFC बैंक के साथ हुआ था। रिजर्व बैंक ने साल 2020 में HDFC बैंक पर भी इसी तरह की कार्रवाई की थी। उस समय बैंक को इन समस्याओं को सुलझाने में 9 से 15 महीने लग गए थे। जेफरीज का कहना है कि यद‍ि कोटक महिंद्रा बैंक को भी समस्याएं सुलझाने में ज्‍यादा समय लगता है तो इससे बैंक की कमाई और खर्च दोनों पर असर पड़ सकता है।

क्‍या कार्रवाई की गई?
बैंक‍िंग रेग्‍युलेटर आरबीआई ने कोटक महिंद्रा बैंक पर कार्रवाई करते हुए ऑनलाइन या मोबाइल बैंकिंग के जरिये नए ग्राहक जोड़ने और नए क्रेडिट कार्ड जारी करने पर रोक लगा दी है। र‍िजर्व बैंक की तरफ से की गई इस कार्रवाई के बाद कोटक महिंद्रा बैंक नए क्रेड‍िट कार्ड जारी नहीं कर सकेगा। हालांकि आरबीआई की तरफ से यह साफ क‍िया गया क‍ि कोटक महिंद्रा बैंक मौजूदा ग्राहक और क्रेडिट कार्ड होल्डर्स को पहले की तरह सर्व‍िस देता रहेगा।

आरबीआई ने क्‍यों की कार्रवाई?
आरबीआई (RBI) की तरफ से बताया गया क‍ि कोटक बैंक के आईटी जोखिम प्रबंधन और सूचना सुरक्षा संचालन में बरती जाने वाली खामियों के चलते यह कार्रवाई की गई है। आरबीआई ने कहा कि साल 2022 और 2023 के लिए र‍िजर्व बैंक की आईटी जांच से पैदा हुई अहम चिंताओं और इन चिंताओं को व्यापक और समय पर ढंग से सुधार नहीं होने पर बैंक की ओर से लगातार विफलता के आधार पर ये कार्रवाई की गई है।

इसे भी पढ़े   कांग्रेस की भारत जोड़ो यात्रा से पहले शशि थरूर ने मीडिया से अहम बिंदुओं पर बात की

ख़बर को शेयर करे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *