महाशिवरात्रि पूजन मुहूर्त,चार पहर की पूजा का समय और चौघड़िया

महाशिवरात्रि पूजन मुहूर्त,चार पहर की पूजा का समय और चौघड़िया
ख़बर को शेयर करे

नई दिल्ली। महाशिवरात्रि पर इस बार वर्षों बाद कई दुर्लभ योगों का संयोग बना है। इस बार महाशिवरात्रि, सर्वार्थ सिद्धि, सिद्धि, शिव योग, श्रवण नक्षत्र का संयोग, इस दिन चंद्रमा शनि के नक्षत्र श्रवण उपरांत मंगल के धनिष्ठा नक्षत्र में गोचर करेंगे। इसके अलावा महाशिवरात्रि के दिन चतुर्दशी तिथि के साथ त्रयोदशी तिथि भी है। इसलिए शुभ मुहूर्त में पूजन करने से भक्तों को भगवान शिव की विशेष कृपा प्राप्त हो सकती है। महाशिवरात्रि पर चार प्रहर की पूजा करने का भी विधान है। आइए जानते हैं महाशिवरात्रि पर चारों प्रहर की पूजा करने के लिए शुभ मुहूर्त।

महाशिवरात्रि चार प्रहर पूजन शुभ मुहूर्त
प्रथम प्रहर पूजन मुहूर्त : 8 मार्च को रात में 6 बजकर 25 मिनट से 9 बजकर 28 मिनट तक
द्वितीय प्रहर पूजन मुहूर्त : 8 मार्च को रात में 9 बजकर 28 मिनट से 12 बजकर 31 मिनट तक
तृतीय प्रहर पूजन मुहूर्त : रात में 12 बजकर 31 मिनट से 3 बजकर 34 मिनट तक (8-9 मार्च मध्यरात्रि)
चतुर्थ प्रहर पूजन मुहूर्त : मध्य रात्रि 3 बजकर 34 मिनट से अगले दिन सुबह 6 बजकर 37 मिनट तक।
महाशिवरात्रि पारण मुहूर्त : अगले दिन 9 मार्च को सुबह 6 बजकर 38 मिनट से 6 बजकर 17 मिनट तक।
निशीथ काल पूजन मुहूर्त : मध्यरात्रि 12 बजकर 7 मिनट से 12 बजकर 56 मिनट तक।

महाशिवरात्रि दिन की पूजा का चौघड़िया मुहूर्त
8 मार्च लाभ चौघड़िया : सुबह 8 बजकर 6 मिनट से 9 बजकर 35 मिनट तक।
8 मार्च को अमृत चौघड़िया : सुबह 9 बजकर 35 मिनट से 11 बजकर 3 मिनट तक।
8 मार्च को शुभ चौघड़िया : दोपहर 12 बजकर 32 मिनट से 2 बजे तक।

महाशिवरात्रि रात की पूजा का चौघड़िया मुहूर्त
लाभ चौघड़िया मुहूर्त : रात में 9 बजकर 29 मिनट से 11 बजकर 1 मिनट तक।
अमृत चौघड़िया मुहूर्त : मध्य रात्रि 2 बजकर 1 मिनट से 3 बजकर 33 मिनट तक।
शुभ चौघड़िया मुहूर्त : मध्यरात्रि 12 बजकर 29 मिनट से 2 बजकर 1 मिनट तक।

इसे भी पढ़े   जीतनराम मांझी का नीतीश सरकार को बड़ा झटका,बेटे संतोष ने मंत्री पद से दिया इस्तीफा

महाशिवरात्रि पर चार प्रहर पूजन का महत्व
ऐसी मान्यता है कि महाशिवरात्रि के दिन भगवान शिव और माता पार्वती पृथ्वी पर भ्रमण करने के लिए आते हैं। इसलिए रात के समय में भगवान शिव और माता पार्वती की उपासना का विशेष महत्व है। इसके अलावा चार प्रहर की पूजा करने से धर्म, अर्थ, काम और मोक्ष प्राप्त होता है। इसके अलावा चार प्रहर की पूजा करने से व्यक्ति के जीवन में सुख समृद्धि बनी रहती है। साथ ही व्यक्ति की सभी मनोकामनाएं पूरी होती हैं।


ख़बर को शेयर करे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *