चीन से आई एक खबर…और सोना हो गया धड़ाम,इनवेस्‍ट करने वालों की बढ़ सकती है मुसीबत!

चीन से आई एक खबर…और सोना हो गया धड़ाम,इनवेस्‍ट करने वालों की बढ़ सकती है मुसीबत!
ख़बर को शेयर करे

नई दिल्ली। सोने और चांदी की कीमत में प‍िछले कुछ समय से लगातार तेजी देखी गई। असर यह हुआ क‍ि दोनों ही कीमती धातु चढ़कर लाइफ टाइम हाई पर पहुंच गईं। कीमत में आई तेजी का कारण व‍िकासशील देशों के केंद्रीय बैंकों की तरफ से गोल्‍ड की र‍िकॉर्ड खरीदारी बताया गया। लेक‍िन शुक्रवार (7 जून) को सोने की कीमत में इंटरनेशनल और डोमेस्‍ट‍िक मार्केट में करीब 2 प्रत‍िशत की बड़ी ग‍िरावट देखी गई है। ग‍िरावट का कारण चीन के केंद्रीय बैंक की तरफ से सोने की खरीद बंद करना माना जा रहा है।

हफ्तेभर में आई तेजी को गंवा द‍िया
दरअसल, चीन का सेंट्रल बैंक प‍िछले 18 महीने से लगातार सोने की खरीदारी कर रहा था। लेक‍िन मई में उसकी तरफ से सोने की खरीद को बंद कर द‍िया गया। शुक्रवार को इंटरनेशनल मार्केट में हाजिर सोना का भाव 1.8% गिरकर 2,333।69 डॉलर प्रति औंस पर पहुंच गया। इतना ही नहीं सोने ने इस हफ्ते में आई तेजी को बाजार बंद होते-होते लगभग गंवा द‍िया। सोना अब तक इस हफ्ते केवल 0.3% ऊपर है। अक्टूबर 2022 के बाद पहली बार मई में ऐसा मौका है जब चीन के पीपुल्‍स बैंक ऑफ चाइना (PBOC) ने अपने गोल्‍ड र‍िजर्व में क‍िसी तरह का इजाफा नहीं किया।

सोने की कीमत में क्‍यों आई ग‍िरावट
अप्रैल के अंत में चीन के पास 7.28 करोड़ ट्रॉय औंस सोना था, मई के आख‍िर में भी आंकड़ा यही रहा। इससे साफ है क‍ि चीन ने मई में सोने की खरीदारी नहीं की। सोने की कीमत इंटरनेशनल मार्केट में 20 मई को रिकॉर्ड हाई 2,449.89 प्रति औंस पर पहुंच गई थीं। चीन की कीमत में आ रही तेजी का प्रमुख कारण बड़े केंद्रीय बैंकों,खासकर चीन की मजबूत मांग थी। Stonex के एनाल‍िस्‍ट Rhona O’Connell ने चीन के इस कदम पर कहा क‍ि अप्रैल में बहुत कम बढ़ोतरी के बाद चीन के केंद्रीय बैंक की तरफ से सोना नहीं खरीदना कीमत में गिरावट का कारण रहा होगा।

इसे भी पढ़े   'बिग बिलियन डेज' सेल में बेचा एमआरपी से 96 रुपये ज्यादा दाम पर शैम्पू,कंपनी को लगा 20 हजार का फटका

मई 2009 से पहले भी ऐसा ही हुआ था
Rhona O’Connell ने यह भी कहा क‍ि ऐसा पहले कई बार हो चुका है कि चीन के बैंक ने लंबे समय तक अपने गोल्‍ड र‍िजर्व में बदलाव की रिपोर्ट नहीं दी और फिर अचानक एकदम से बहुत ज्यादा बढ़ोतरी बता दी। मई 2009 से पहले भी चीन ने ऐसा ही क‍िया था। उस समय चीन ने 600 टन सोना होने के बाद अचानक से इस आंकड़े को 1054 टन बताया था। जानकारों का मानना है कि चीन आने वाले समय में अभी और खरीदेगा। Saxo Bank में कमोड‍िटी स्‍ट्रेटजी के हेड ओले हेंसन कहते हैं क‍ि चीन ने सोना खरीदना अभी छोड़ा नहीं है।

घरेलू बाजार में भी सोना धड़ाम
https://ibjarates।com पर जारी आंकड़ों के अनुसार भारतीय सर्राफा बााजर में सोने की कीमत 21 मई को 74222 रुपये के ऑल टाइम हाई पर पहुंच गई। इसी तरह चांदी का 29 मई को 94280 रुपये प्रत‍ि क‍िलो का ऑल टाइम हाई था। शुक्रवार को बंद हुए कारोबारी सप्‍ताह में सोना ग‍िरकर 71913 रुपये प्रत‍ि 10 ग्राम और चांदी 90535 रुपये प्रत‍ि क‍िलो पर बंद हुई। चीन से आई खबर का असर भारतीय बाजार में भी देखा जा रहा है। जानकारों का कहना है क‍ि इस खबर का असर अभी बाजार में बना रहेगा और सोना सोमवार को और नीचे जा सकता है।

भारत तीसरा सबसे बड़ा खरीदार
आरबीआई मई के महीने में दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा सोना खरीदार रहा है। वर्ल्ड गोल्ड काउंसिल की र‍िपोर्ट के अनुसार बीते महीने मई में भारत की तरफ से करीब 722 करोड़ रुपये का सोना खरीदा गया। इस मामले में स्विटजरलैंड पहले और चीन दूसरे पायदान पर रहा। इस दौरान भारत ने करीब 722 करोड़ रुपये के सोने की खरीद की। जबक‍ि स्विटजरलैंड ने 2461 करोड़ और चीन ने 2109 करोड़ का सोना खरीदा। मई के अंत में चीन के पास 2262.45 टन सोना है, अप्रैल में भी उसका गोल्ड रिजर्व का यही आंकड़ा था। गोल्‍ड र‍िजर्व के मामले में भारत का नंबर नौवा है और उसके पास 822.09 टन सोना है।

इसे भी पढ़े   मधेपुरा के डीएम की तेज रफ्तार कार ने चार को मारी टक्कर,दो घायल

ख़बर को शेयर करे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *