बायजू को एक और झटका,अदालत के आदेश पर 4400 करोड़ फ्रीज

बायजू को एक और झटका,अदालत के आदेश पर 4400 करोड़ फ्रीज
ख़बर को शेयर करे

नई दिल्ली। एडटेक कंपनी बायजू के बुरे द‍िन खत्‍म होने का नाम नहीं ले रहे हैं। प‍िछले द‍िनों बायजू ने बड़ा फैसला करते हुए अपने सभी ऑफ‍िस को बंद कर द‍िया। इसके साथ ही कर्मचारियों को वर्क फ्रॉम होम करने के ल‍िए कहा गया। अब एडटेक कंपनी को एक और झटका लगा है। अमेरिका के एक बैंकरप्‍सी कोर्ट ने Byju’s को लोन देने वालों के हक में फैसला सुनाया है। आदेश के अनुसार बायजू 533 मिलियन डॉलर (4400 करोड़ रुपये) के लोन की रकम को अब न तो ट्रांसफर कर सकता है और न ही उसे इस्तेमाल कर सकता है। यानी यह रकम अब फ्री हो गई है। बायजू और लोन देने वालों के बीच यह भारी-भरकम रकम सबसे बड़ा विवाद था।

अदालत का फैसला
लोन देने वालों के ग्रुप ने बताया कि यह पैसा पहले हेज फंड Camshaft Capital के पास था। इसके अब किसी विदेशी ट्रस्ट में ट्रांसफर कर दिया गया है। अदालत की तरफ से द‍िये गए आदेश में कहा गया क‍ि इस पैसे को कहीं यूज नहीं किया जा सकता। कोर्ट की तरफ से द‍िये गए आदेश को बायजू के खिलाफ कानूनी लड़ाई लड़ रहे कर्जदाताओं की जीत माना जा रहा है। कोर्ट ने Byju’s के फाउंडर और ग्रुप सीईओ बायजू रव‍िंद्रन और उनकी पत्‍नी द‍िव्‍या गोकुलनाथ को आदेश का पालन करने के लिए कहा है।

व‍िल‍ियम मॉटर्न को गिरफ्तार करने का आदेश दिया
इसके अदालत में पेश नहीं होने और 533 मिलियन डॉलर के ट्रांसफर और पैसों की मौजूदा स्थिति के बारे में क‍िसी तरह की जानकारी देने से इनकार करने पर कैमशाफ्ट कैपिटल के फाउंडर व‍िल‍ियम मॉटर्न को गिरफ्तार करने का आदेश दिया है। अदालत ने कहा यह बड़ी बात है कि पेरेंट कंपनी थ‍िंक एंड लर्न यह छिपाने की कोशिश कर रही है कि पैसा कहां है।

इसे भी पढ़े   MLA सौरभ भारद्वाज और आतिशी बनेंगे AAP सरकार में मंत्री! सीएम केजरीवाल ने LG को भेजा नाम

आपको बता दें Byju ने हाल ही में कहा था कि 533 मिलियन डॉलर की रकम कंपनी की किसी विदेशी ब्रांच में रखी हुई है। लेकिन उन्होंने इस बारे में ज्यादा जानकारी नहीं दी। Byju’s का कहना है क‍ि अदालत के आदेश ने सिर्फ ‘वर्तमान स्थिति’ को बरकरार रखा है, क्योंकि कंपनी हमेशा से यही कहती आ रही है कि वो पैसा उनकी ही एक शाखा में जमा है।


ख़बर को शेयर करे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *