Azam Khan के ठिकानों पर रेड में बड़ा खुलासा,800 करोड़ की चोरी का है शक

Azam Khan के ठिकानों पर रेड में बड़ा खुलासा,800 करोड़ की चोरी का है शक
ख़बर को शेयर करे

नई दिल्ली। इनकम टैक्स डिपार्टमेंट (IT) ने 3 दिन तक सपा (SP) नेता आजम खान और उनसे जुड़े अन्य लोगों के ठिकानों पर रेड के बाद 800 करोड़ रुपये से ज्यादा की टैक्स चोरी का शक जताया है। आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि आयकर अधिकारी,सुरक्षा बलों की टीम के साथ बुधवार की सुबह करीब 7 बजे आजम खान के जेल रोड स्थित घर में दाखिल हुए और शुक्रवार शाम तक रेड की कार्रवाई जारी रखी। रेड के बाद आजम खान ने कहा कि यह इनकम टैक्स डिपार्टमेंट की रेड थी और वे लोग यहां 3 दिन तक रहे,तलाशी ली और कई सवाल पूछे।

आजम खान ने क्या कहा?
हालांकि,आजम खान ने इसके अलावा मीडिया के सवालों का जवाब देने से मना कर दिया। जान लें कि आईटी डिपार्टमेंट ने आजम खान और उनसे जुड़े लोगों के विरुद्ध टैक्स चोरी की जांच के तहत उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश में 30 से ज्यादा जगहों पर रेड की। आधिकारिक सूत्रों की मानें तो आईटी विभाग ने पड़ोसी राज्य एमपी के कुछ परिसरों के अलावा यूपी के रामपुर, लखनऊ,सहारनपुर,मेरठ और गाजियाबाद में रेड की।

बता दें कि ये एक्शन आजम खान और उनके परिवार के सदस्यों की तरफ से संचालित कुछ ट्रस्ट संगठनों से संबंधित था. गाजियाबाद में आईटी विभाग ने बुधवार को राजनगर कॉलोनी के एक आवास पर रेड की। अधिकारियों के मुताबिक,आईटी विभाग ने जांच का दायरा बढ़ाते हुए आजम खान की अध्यक्षता वाली मुहम्मद अली जौहर यूनिवर्सिटी के अलावा पब्लिक वर्क डिपार्टमेंट और जिला पंचायत दफ्तर में भी जांच की।

इसे भी पढ़े   Shani Vrat: शनि के प्रकोप से बचाता है शनिवार का व्रत, जानें विधि और महत्व

800 करोड़ की चोरी का शक
सूत्रों के मुताबिक, सरकारी खर्चे की फाइलों की जांच की गई क्योंकि आजम खान पर 800 करोड़ रुपये से ज्यादा की टैक्स चोरी का शक है। हालांकि,रेड पर समाजवादी पार्टी ने तीखा रिएक्शन जताते हुए कहा कि बीजेपी सरकार पर ‘तानाशाह’रवैया अपना रही है। केंद्रीय एजेंसियों का दुरुपयोग कर रही है।

वही, केंद्रीय एजेंसियों के दुरुपयोग के आरोपों पर यूपी के डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य ने कहा कि एजेंसियां अपने अधिकार में रहकर भारत को भ्रष्टाचार मुक्त बनाने के लिए काम कर रही हैं। गौरतलब है कि रामपुर की एक एमपी-एमएलए कोर्ट ने पिछले साल आजम खान को नफरत फैलाने वाले भाषण के केस में दोषी ठहराया था और 3 साल जेल की सजा सुनाई थी। सजा मिलने के बाद पूर्व मंत्री की विधायकी रद्द कर दी गई थी।


ख़बर को शेयर करे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *