अदाणी मुद्दे पर मार्च निकाल रहे विपक्षी दलों को रोका गया, संसद में फिर घमासान

अदाणी मुद्दे पर मार्च निकाल रहे विपक्षी दलों को रोका गया, संसद में फिर घमासान
ख़बर को शेयर करे

नई दिल्ली । अदाणी मुद्दे पर संसद से लेकर सड़क तक विपक्षी दलों का हंगामा देखने को मिल रहा है। कई विपक्षी दलों ने संसद भवन से लेकर ईडी दफ्तर तक मार्च निकालने की कोशिश की। इस दौरान विपक्षी नेताओंं ने सरकार के खिलाफ नारेबाजी भी की। हालांकि, टीएमसी और एनसीपी ने इस मार्च से किनारा किया है।

संसद में उठा मुद्दा
उधर, ईडी दफ्तर पहुंचने से पहले ही विपक्षी दलों को रोक दिया गया। कांग्रेस सांसद नासिर हुसैन ने कहा कि हम फिर मामले को सदन में उठाएंगे। इसके बाद विपक्षी दलों का प्रतिनिधिमंडल ईडी अधिकारियों से मुलाकात करेगा। हम एक-एक कर ईडी के सामने अपनी शिकायत दर्ज कराएंगे।

वहीं, मार्च निकाले जाने के दौरान कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खरगे ने कहा, “हम सभी अदाणी घोटाले में एक ज्ञापन सौंपने के लिए ईडी निदेशक से मिलने जा रहे हैं। सरकार हमें विजय चौक के पास कहीं नहीं जाने दे रही है, उन्होंने हमें रोक दिया है।” बता दें कि इससे पहले सोमवार और मंगलवार को हंगामे के चलते संसद के दोनों सदनों में काम नहीं हो पाया।

पीएम और अदाणी के बीच क्या संबंध?
खरगे ने आगे कहा, “सरकार एक आदमी को सरकारी संपत्ति खरीदने के लिए पैसा दे रही है। पीएम पीएम किसी ऐसे व्यक्ति को प्रोत्साहित कर रहे हैं, जिसके पास पहले कम संपत्ति थी, लेकिन अब 13 लाख करोड़ रुपये की संपत्ति हो गई है। यह कैसे हुआ? कौन जिम्मेदार है? पैसा कौन दे रहा है? पूछताछ होनी चाहिए। पीएम मोदी और अदाणी के बीच क्या संबंध है?”

इसे भी पढ़े   कोरोना और डेंगू के लक्षण दोनों है समान जाने कैसे

विपक्ष की आवाज को दबाया जा रहा
खरगे ने आगे कहा कि 17-18 राजनीतिक दलों के हम सभी सांसद यहां हैं। हम जानना चाहते हैं कि अदाणी ने 2.5 साल के भीतर लाखों-करोड़ों रुपये कैसे कमाए। सरकार ने हमें यहां रोका है। हम 200 लोग हैं और यहां दो हजार पुलिसकर्मी हैं। वे हमारी आवाज दबाना चाहते हैं।

Live Updates:
संसद भवन से ईडी दफ्तर तक विपक्षी दलों का पैदल मार्च
हंगामे के कारण राज्यसभा की कार्यवाही भी दोपहर दो बजे तक के लिए स्थगित
लोकसभा की कार्यवाही दोपहर दो बजे तक के लिए स्थगित की गई।
महंगाई के मुद्दे पर टीएमसी नेताओं ने गांधी प्रतिमा के सामने प्रदर्शन किया
कांग्रेस सांसद मणिकम टैगोर ने अदाणी मुद्दे की जांच के लिए एक संयुक्त संसदीय समिति (जेपीसी) गठित करने में सरकार की विफलता पर चर्चा करने के लिए लोकसभा में स्थगन प्रस्ताव नोटिस दिया।
कांग्रेस सांसद मनीष तिवारी ने लोकसभा में स्थगन प्रस्ताव का नोटिस दिया।
अदाणी समूह के मुद्दे पर कांग्रेस सांसद प्रमोद तिवारी ने राज्यसभा में नियम 267 के तहत सस्पेंशन ऑफ बिजनेस नोटिस दिया।
AAP सांसद संजय सिंह ने राज्यसभा में नियम 267 के तहत सस्पेंशन ऑफ बिजनेस का नोटिस दिया। उन्होंने अदाणी मुद्दे पर चर्चा की मांग की है।
संजय राउत का निशाना
शिवसेना नेता (ठाकरे गुट) संजय राउत ने कहा कि भाजपा सरकार अपने विरोधियों को निशाना बना रही है, जैसे सत्ता पक्ष बिल्कुल पाक-साफ है। जो सरकार से सवाल पूछते हैं, उन्हें निशाने पर लिया जाता है। उन्हें जेल भेजा जाता है और झूठे केस दर्ज किए जाते हैं। गौतम अदाणी को एक भी समन नहीं भेजा गया। आज हम संसद में सभी सबूत पेश करेंगे।

इसे भी पढ़े   महिला से गैंगरेप,जिंदा जलाने की कोशिश:मुरादाबाद रेंज में निशाने पर महिलाएं

ख़बर को शेयर करे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *