मुसीबत में फंसेंगे सनी! फिल्ममेकर ने लगाया धोखाधड़ी और झूठ बोलने का आरोप

मुसीबत में फंसेंगे सनी! फिल्ममेकर ने लगाया धोखाधड़ी और झूठ बोलने का आरोप
ख़बर को शेयर करे

नई दिल्ली।’गदर 2′ से बवाली कमबैक करने के बाद सनी देओल के पास फिल्मों का ढेर लग गया है। सनी देओल भी एक-एक करके अपनी फिल्मों की शूटिंग पूरी कर रहे हैं। इन्हीं सब के बीच फिल्म प्रोड्यूसर सौरव गुप्ता ने सनी पर धोखाधड़ी, झूठ बोलने और जबरन पैसे वसूलने का आरोप लगाया है। फिल्ममेकर सौरव गुप्ता ने इस हफ्ते की शुरुआत में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान सनी देओल पर आरोप लगाए हैं। सौरव गुप्ता का कहना है कि सनी देओल ने उनसे साल 2016 में एडवांस पेमेंट ली थी और फिल्म करने का वादा करके और भी पैसे लिए। लेकिन ‘गदर 2’ के जबरदस्त हिट होने के बाद उन्होंने फिल्म करना बंद कर दिया।

सनी देओल ले चुके हैं एडवांस पेमेंट!
फिल्ममेकर सौरव गुप्ता ने एचटी सिटी को बताया है कि सनी देओल ने साल 2016 में फिल्म साइन की थी, जिसमें उनकी फीस 4 करोड़ रुपए थी। सौरव गुप्ता ने कहा- ‘हमने उन्हें 1 करोड़ रुपए एडवांस में दिए। लेकिन फिल्म शुरू करने की जगह उन्होंने (सनी देओल) ने पोस्टर बॉयज (2017) की शूटिंग शुरू कर दी।’ फिल्ममेकर सौरव गुप्ता ने कहा- ‘वह मुझसे लगातार पैसे मांगते रहे और अब मेरे 2.55 करोड़ सनी जी के अकाउंट में हैं। उन्होंने मुझे दूसरे डायरेक्टर को पैसे देने के लिए भी कहा, फिल्मीस्तान का स्टूडियो बुक करने और एक्सीक्यूटिव प्रोड्यूसर के लिए भी कहा।’

प्रोड्यूसर ने लगाया आरोप
फिल्ममेकर सौरव गुप्ता ने आरोप लगाते हुए बताया कि सनी देओल ने उनकी कंपनी के साथ साल 2023 में फर्जी समझौता किया था। फिल्ममेकर ने आगे कहा- ‘जब हमने एग्रीमेंट पढ़ा, तो देखा कि उन्होंने तो पन्ना ही चेंज कर दिया बीच वाला, जहां पर फीस अमाउंट 4 करोड़ को बढ़ाकर 8 करोड़ कर दिया और प्रॉफिट तो 2 करोड़ कर दिया…’ प्रोड्यूसर सौरव गुप्ता के सपोर्ट में फिल्ममेकर सुनील दर्शन भी आ गए हैं और उन्होंने भी सनी देओल पर आरोप लगाए हैं और कहा है कि, ‘सनी देओल ने उनकी फिल्म अजय के राइट्स ओवरसीज डिस्ट्रीब्यूशन के लिए लिए थे और सिर्फ आधा ही पेमेंट किया…’

इसे भी पढ़े   बीबीसी डॉक्युमेंट्री पर बैन को लेकर केंद्र को सुप्रीम कोर्ट का नोटिस, 3 हफ्ते में मांगा जवाब

ख़बर को शेयर करे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *