टीचर ने सैलरी से मिलने वाले बोनस से स्कूल को करवाया रिनोवेट

टीचर ने सैलरी से मिलने वाले बोनस से स्कूल को करवाया रिनोवेट
ख़बर को शेयर करे

नई दिल्ली। स्कूल को छात्रों के लिए दूसरे घर के रूप में माना जाता है क्योंकि वे अपने शुरुआती जीवन का एक महत्वपूर्ण समय वहीं बिताते हैं। ये एजुकेशनल इंस्टीट्यूट न सिर्फ बच्चों को किताबों का ज्ञान हासिल करने में मदद करते हैं, बल्कि दोस्तों-यारों के साथ बातचीत करके उन्हें शिष्टाचार और सोशल वैल्यूज को डेवलप करने के लिए एक माहौल बनाते हैं। टीचर्स को स्कूल का केंद्र माना जाता है, और हर सिलेबस उनके इर्द-गिर्द घूमता है। एजुकेशन प्लानिंग और एजुकेशनल प्रोग्राम तैयार करने के अलावा, उन्हें कई अतिरिक्त जिम्मेदारियां भी निभानी पड़ती हैं। एक टीचर ने मिलने वाली सैलरी के बोनस से स्कूल को रिनोवेट कराया है।

टीचर ने बोनस से तैयार करवाया स्कूल
जरूरत पड़ने पर टीचर एक माता-पिता की भी भूमिका निभाते हैं,वहीं कभी-कभी उन्हें छात्रों के सबसे अच्छे दोस्त बनना भी पड़ता है। हाल ही में, मलेशिया के एक शिक्षक ने अपने बोनस का इस्तेमाल क्लास को रिनोवेट कराकर अनूठी मिसाल कायम की। पूरे दुनिया में एजुकेशन का हाल काफी बदल गया है। हर देश स्कूलों को आधुनिक बनाने पर जोर दे रहा है। डिजिटल क्लासेज के शुरू होने से निश्चित रूप से सीखना आसान और मजेदार हो गया है क्योंकि अब छात्र ऑडियो-विजुअल के माध्यम से किसी विषय की गहराई तक जा सकते हैं। कमाल डार्विन एक ऐसे शिक्षक हैं जो वाकई अपने छात्रों की परवाह करते हैं।

क्लासरूम का बदल डाला नक्शा
कमाल ने महसूस किया कि स्कूल का माहौल बच्चों को सीखने में मदद करता है। इसलिए उन्होंने अपने क्लास रूम को ही बदलने का फैसला किया। पढ़ाने के सिर्फ तीन हफ्ते बाद ही उन्होंने ये समझ लिया कि स्कूल का माहौल बच्चों को कितना प्रभावित करता है। उन्होंने अपने क्लास रूम को आरामदायक बनाने के लिए, अंदर एक सोफा रखा और दीवारों को चित्रों और चार्ट्स से सजाया।

इसे भी पढ़े   रणबीर ने खुद बताया 8 नंबर के लिए अपने प्यार का कारण,नीतू कपूर से है सीधा संबंध

लोगों ने सुनाई अपनी-अपनी कहानी
कहानी सामने आने के बाद कई यूजर्स ने डार्विन के प्रयासों की सराहना की, जबकि कुछ लोगों ने स्कूलों के रिनोवेशन के लिए पैसे नहीं देने के लिए सरकार की आलोचना की। एक यूजर ने कमेंट में लिखा, “स्कूल में छात्रों के कल्याण की देखभाल करने वाले मंत्रालय पर शर्म करो।” दूसरे ने लिखा, “यह बहुत दुखद है, यह शिक्षक बहुत दयालु हैं। स्कूलों को मिलने वाला बजट बहुत कम है।”


ख़बर को शेयर करे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *