संसद में पीएम मोदी ने मुलायम सिंह यादव का नाम क्यों लिया? रामगोपाल पर ऐसे साधा निशाना

संसद में पीएम मोदी ने मुलायम सिंह यादव का नाम क्यों लिया? रामगोपाल पर ऐसे साधा निशाना
ख़बर को शेयर करे

लखनऊ। पीएम नरेंद्र मोदी ने लोकसभा के बाद बुधवार को राज्यसभा में राष्ट्रपति के अभिभाषण पर चर्चा का जवाब दिया। इस दौरान उन्होंने मुलायम सिंह यादव को याद किया। पीएम नरेंद्र मोदी ने रामगोपाल यादव से सवाल किया कि क्या नेताजी कभी झूठ बोलते थे? नेताजी हमेशा सच बोलते थे। रामगोपाल जी से कहना चाहूंगा कि जरा वे भतीजे को भी बताएं। उनको भी याद दिलाएं कि राजनीति में कदम रखते ही भतीजे के पीछे सीबीआई का फंदा लगाने वाले कौन थे? उन्हें जरा याद दिला देंगे तो पता चलेगा। पीएम नरेंद्र मोदी ने मुलायम सिंह यादव के बयान का जिक्र करते हुए कहा था कि कांग्रेस से लड़ना आसान नहीं है। वह सीबीआई जैसी एजेंसियों का इस्तेमाल करती है और विपक्ष को फंसाती है। पीएम ने पूछा कि क्या नेताजी झूठ बोलते थे?

पीएम नरेंद्र मोदी ने राज्यसभा में एजेंसियों के दुरुपयोग के आरोपों का जवाब दिया। उन्होंने स्वर्गीय मुलायम सिंह यादव के पुराने बयान का जिक्र किया। उन्होंने कहा कि हम आज भ्रष्टाचार के खिलाफ ऐक्शन ले रहे हैं। इससे कुछ ऐसे लोग भी परेशान दिख रहे हैं, जो अब तक कहते थे कि करप्शन के खिलाफ कार्रवाई होनी चाहिए। उन्होंने दिल्ली में शराब घोटाले का जिक्र करते हुए कहा कि आप घोटाला करें और हम ऐक्शन न लें। ऐसा कैसा हो सकता है। यही नहीं पीएम मोदी ने कहा कि दिल्ली में शराब घोटाले के खिलाफ तो कांग्रेस ने ही शिकायत की थी। अब जेल जाना पड़ा है तो नरेंद्र मोदी को गाली दी जा रही है।

इसे भी पढ़े   पूनम पांडे की मौत! अब तक नहीं मिले इन 5 सवालों के जवाब

रामगोपाल पर साधा निशाना
सपा संस्थापक के पुराने बयान का जिक्र करते हुए सदन में मौजूद रामगोपाल यादव की ओर पीएम नरेंद्र मोदी ने इशारा किया। उन्होंने कहा कि आप कहेंगे कि क्या मुलायम सिंह यादव का यह बयान गलत था। क्या स्वर्गीय नेताजी झूठ बोलते थे? दरअसल, मुलायम ने अपने बयान में कांग्रेस पर हमला बोला था। सीबीआई जैसी एजेंसियों के दुरुपयोग कर विपक्ष को फंसाने की बात कही थी। पीएम मोदी ने कहा कि मैंने एजेंसियों को खुली छूट दे रखी है। उनके एक्शन में सरकार कोई अड़ंगा नहीं लगाएगी, इसका भरोसा दिया गया है।

इमरजेंसी का किया जिक्र
पीएम मोदी ने राज्यसभा में अपने भाषण के दौरान इमरजेंसी के दौर की बर्बरता को एक बार फिर याद किया। पीएम ने कहा कि आज कुछ लोग उनके ही साथ हो गए हैं, जिन्होंने आपातकाल का विरोध किया था। पीएम मोदी ने कहा कि क्या आप 1977 का चुनाव भूल गए। उस समय अखबार और रेडियो बंद थे। देशवासियों ने लोकतंत्र की स्थापना के लिए वोट किया था और उस चुनाव में संविधान को बचा लिया गया।

पीएम मोदी ने कहा कि आप देशवासियों को आज गुमराह कर रहे हैं, लेकिन संविधान बचाने का चुनाव तब हुआ था। पीएम मोदी ने कहा कि ये लोग 500 साल पुरानी बात भी करते हैं। जब आपातकाल की बात हो रही है तो कहते हैं कि पुरानी बात है। क्या आपके पाप पुराने हो जाते हैं?

युवाओं को दिलाया भरोसा
पीएम मोदी ने युवाओं को भरोसा दिलाया है कि परीक्षा पेपर लीक के मुद्दे पर कठोर कार्रवाई होगी। मैं देश के युवाओं को आश्वस्त करता हूं कि आपको धोखा देने वालों को ये सरकार छोड़ने वाली नहीं है। पीएम ने राज्यसभा में भी दोहराया कि देश के नौजवानों के भविष्य के साथ खिलवाड़ करने वालों को सख्त से सख्त सजा मिले, इसलिए एक से एक एक्शन लिया जा रहा है। हम पूरी सिस्टम को मजबूती दे रहे हैं कि भविष्य में मेरे देश के जवानों को आशंका भरी स्थिति में न रहना पड़े।

इसे भी पढ़े   करहल में सीएम योगी ने जनसभा को सम्बोधित किया

ख़बर को शेयर करे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *