Friday, December 2, 2022
Google search engine
Homeब्रेकिंग न्यूज़काशी तमिल संगमम है दो संस्कृतिओं का मिलन,दक्षिण भारतियों का पहला पसंद...

काशी तमिल संगमम है दो संस्कृतिओं का मिलन,दक्षिण भारतियों का पहला पसंद बनारसी साड़ी

वाराणसी | दक्षिण के पर्यटकों में बनारसी साड़ी का काफी क्रेज रहता है। तमिल संगमम में आ रहे पर्यटकों के स्वागत में दशाश्वमेध से शिवाला तक बाजार सज गए हैं। दुकानदार शिवेश ने बताया कि तमिल संगमम बनारसी साड़ी और कांजीवरम साड़ी के धागे बनारस और तमिलनाडु के रिश्ते को मजबूत करेंगे। तमिल संगमम दो राज्यों के नागरिकों के मिलन का नहीं दो संस्कृतियों के धार्मिक और खानपान का सम्मेलन है। कांजीवरम और बनारस साड़ी का अटूट संबंध है। तमिलनाडु के कांचीपुरम में बनने वाली साड़ी की विशेषता मुगल प्रेरित डिजाइन है। डिजाइन के बावजूद इस साड़ी का वजन काफी कम होता है। बनारसी साड़ी भी बुनाई और जरी के काम के बाद भी हल्की होती है। 

 शैव धर्म में शिव की प्रधानता है। 12 ज्योतिर्लिंगों में से एक काशी विश्वनाथ शैव धर्म के मानने वाले वालों के लिए विशेष है। प्रति वर्ष लाखों की संख्या में दक्षिण भारतीय पर्यटक काशी की यात्रा पर आते हैं। पर्यटक बनारसी साड़ी को प्रसाद के तौर पर ले जाते हैं।  

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -spot_img

Most Popular

- Advertisment -spot_img
- Advertisment -spot_img